सीटी बजाने की तनख्वाह पा रहे सुरक्षाकर्मी

कुर्सी डालकर बैठे रहते हैं पॉलीटेक्निक के गार्ड!

(ब्यूरो कार्यालय)

सिवनी (साई)। लगभग पचास साल पुराने पॉलीटेक्निक कॉलेज की सुरक्षा के लिये आऊट सोर्स की गयी सुरक्षा एजेंसी के कर्मचारी महज एक घर की सुरक्षा में ही लगे दिखते हैं। एक ही आवास के सामने रात को सीटी बजाकर अपने कर्त्तव्यों को पूरा करने वाले सुरक्षा कर्मियों को पॉलीटेक्निक प्रशासन के द्वारा हर माह मोटी रकम प्रदान की जा रही है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार विशालकाय कैंपस वाले पॉलीटेक्निक कॉलेज की सुरक्षा के लिये कॉलेज प्रबंधन के द्वारा निजि सुरक्षा एजेंसी से सुरक्षा कर्मियों को किराये पर लिया गया है। इसके एवज में पॉलीटेक्निक कॉलेज प्रबंधन के द्वारा एजेंसी को मोटी रकम भी प्रदाय की जाती है।

बताया जाता है कि इनमें से एक सुरक्षा कर्मी के लिए पॉलीटेक्निक कॉलेज के प्राध्यापकों के लिये बनाये गये आवास में से एक आवास के सामने एक स्थायी कुर्सी रख दी गयी है। इस कुर्सी पर बैठा सुरक्षा कर्मी दिन-रात महज एक आवास की सुरक्षा की जिम्मेदारी पूरी करता दिखता है।

इसके साथ ही बताया जाता है कि पॉलीटेक्निक कॉलेज के खेल के मैदान से लगे इस आवास के सामने बैठे इस सुरक्षा कर्मी को इस बात से कोई लेना-देना नहीं होता है अंधेरा होने के बाद भी खेल के मैदान में टोलियों में बैठे लोग क्या कर रहे हैं। कहा जाता है कि अंधेरा पसरते ही पॉलीटेक्निक कॉलेज का खेल का मैदान मयखाने में तब्दील हो जाता है। इन मयजदों को वहाँ से हटाने के लिये पॉलीटेक्निक कॉलेज के लिये तैनात सुरक्षा कर्मी किसी तरह की कवायद नहीं करते नजर आते हैं।

बताया जाता है कि जिस घर के सामने इस सुरक्षा कर्मी के लिये कुर्सी लगायी गयी है उस घर के लिये दूध, किराना आदि लाने ले जाने का काम भी पॉलीटेक्निक कॉलेज प्रबंधन के द्वारा इस सुरक्षा कर्मी से कराया जाता है। पॉलीटेक्निक कॉलेज प्रबंधन के सूत्रों का कहना है कि सुरक्षा कर्मी का दायित्व संपूर्ण परिसर की सुरक्षा का है। वैसे भी पॉलीटेक्निक कॉलेज के चारों ओर चार दीवारी है और पॉलीटेक्निक कॉलेज प्रबंधन के द्वारा सदा ही प्रोवीजन की दुहाई देते हुए यहाँ अवांछित तत्वों के प्रवेश को रोकने की बात कही जाती है पर वस्तुतः ऐसा होता दिखता नहीं है।



17 Views.

Related News

(शरद खरे) सिवनी में पुलिस की कसावट के लिये पुलिस अधीक्षक तरूण नायक के द्वारा प्रयास किये जा रहे हैं।.
गंभीर अनियमितताओं के बाद भी लगातार बढ़ रहा है ठेके का समय (अय्यूब कुरैशी) सिवनी (साई)। इंदौर मूल की कामथेन.
मामला मोहगाँव-खवासा सड़क निर्माण का (अखिलेश दुबे) सिवनी (साई)। अटल बिहारी वाजपेयी के प्रधानमंत्रित्व काल की महत्वाकांक्षी स्वर्णिम चर्तुभुज सड़क.
नालियों में उतराती दिखती हैं शराब की खाली बोतलें! (ब्यूरो कार्यालय) सिवनी (साई)। विधानसभा मुख्यालय केवलारी के अनेक कार्यालयों में.
धोखे से जीत गये बरघाट सीट : अजय प्रताप (ब्यूरो कार्यालय) सिवनी (साई)। भाजपा के आजीवन सदस्यों के सम्मान समारोह.
(महेश रावलानी) सिवनी (साई)। बसंत के आगमन के साथ ही ठण्डी का बिदा होना आरंभ हो गया है। पिछले दिनों.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *