सेहत के लिये मुश्किल का संकेत है आँख फड़कना

आँखें हमारे शरीर का सबसे महत्वपूर्ण और संवेदनशील हिस्सा है और इनकी देखभाल बेहद जरूरी है। आँखों की एक सामान्य समस्या है पलकों का फड़कना जिसे कभी मौसम के बदलाव से जोड़ा जाता है, तो कभी अंधविश्वास से।

आमतौर पर आँखों के फड़कने की प्रक्रिया हर व्यक्ति के साथ होती है लेकिन कुछ मामलों में यह बार-बार या लंबे समय तक जारी रहती है। सामान्य तौर पर एक वयस्क व्यक्ति की पलकें एक मिनिट में लगभग 20-25 बार तक झपकती हैं। पलकों का फड़कना आँखों की सुरक्षा का एक तरीका है। वहीं कई बार इसके साथ दूसरी समस्याएं जैसे दर्द, चुभन या जलन व असहजता भी हो सकती है।

कई हैं कारण

पलकों के फड़कने के पीछे कई कारण हो सकते हैं। इसमें थकान, ठण्डा-गर्म मौसम, एल्कोहल या अन्य नशे की वस्तुओं का सेवन, नींद की कमी, तनाव, कैफीन का ज्यादा मात्रा में सेवन, कंजक्टिवाईटिस, मायोपिया, तेज लाईट, आँखों के अंदर सूजन और देर तक टीवी या कंप्यूटर मॉनिटर की स्क्रीन पर देखना जैसी आदतें शामिल हैं।

और भी हैं मुश्किलें

डिस्टोनिया या ब्लफेरोस्पाज्म, जिसके कारण आँखें और पलकें लगातार फड़कती रहती हैं और सामान्य उपचार से ठीक नहीं होतीं। यही नहीं इससे आँखों और पलकों में भारीपन, थकान और ड्राईनेस बनी रहती है। इनके अलावा कुछ विशेष बीमारियों जैसे पार्किंसंस, स्ट्रोक, बेल्स पाल्सी, टोरेट्स सिंड्रोम आदि के कारण भी पलकों में फड़कने की समस्या उत्पन्न हो सकती है। कंजक्टिवाइटिस की तकलीफ में भी पलकें लगातार फड़क सकती हैं। साथ ही इनमें दर्द, चुभन और पानी निकलने जैसी तकलीफ भी हो सकती है। ऐसे में तुरंत डॉक्टर से सलाह लेनी चाहिये।

जल्द उपचार हो सकता है प्रभावी  : आँखों के फड़कने की समस्या अगर सामान्य तरीकों से ठीक न हो तो तुरंत ध्यान देना जरूरी है, नहीं तो कई मामलों में आँखों की रोशनी के खत्म होने का भी खतरा हो सकता है। साधारण मामलों में यह तकलीफ आँखों को आराम देने, तकलीफ पैदा करने वाले कारक जैसे तेज रोशनी, नशे का सेवन, तनाव आदि से दूर रहने जैसे उपायों से दुरुस्त हो जाती है लेकिन गंभीर मामलों में दवाओं के अलावा कुछ विशेष प्रकार के इंजेक्शन या एक्यूप्रेशर जैसी कुछ तकनीकों के प्रयोग की भी सलाह दी जाती है।

कमजोर रोशनी भी है समस्या

आँखों की कमजोर रोशनी भी एक सामान्य समस्या है जिसकी वजह से अक्सर लोगों को चश्मा लग जाता है। अगर आपकी आँखों के साथ भी ऐसा ही है तो रोजाना कुछ सामान्य एक्सरर्साइज करने पर चश्मे की जरूरत नहीं पड़ेगी। ये एक्सरसाईज न सिर्फ आपकी आँखों की रोशनी बढ़ाने में मददगार होती हैं बल्कि इससे जुड़ी हर तकलीफ को दूर करने का काम भी करते हैं। आँखों की ये एक्सर्साइज मांसपेशियों को लचीला बना देती हैं और उनमें खून के प्रवाह को दुरुस्त रखती हैं। इससे आँखों की दृष्टि तो ठीक होती ही है, साथ ही रोशनी भी बढ़ती है।

करें आँखों की एक्सरसाईज

एक पेंसिल हाथ में लेकर उसे वर्टिकली अपने नाक की सीध और आँखों के बीचोबीच रखें। अब धीरे-धीरे पेंसिल को आँखों के पास लायें और फिर दूर ले जायें। रोजाना कम से कम इसका 10 बार अभ्यास करें।

पद्मासान लगाकर बैठ जायें और अपनी आँखों की पुतलियों को पहले क्लॉकवाइज घुमायें फिर इन्हें एंटी-क्लॉकवाईज घुमायें। कम से कम 4-5 बार इस प्रक्रिया को दोहरायें।

अपनी आँखों की पलकें कम से कम 20 बार बिना रुके झपकायें। फिर आँखें बंद कर उन्हें आराम दें। दिन भर में 02 बार इसे करने से लाभ होगा।

अपने से लगभग 20 मीटर दूर रखी किसी वस्तु पर अपना ध्यान केंद्रित करें। शुरुआत में ऐसा 05 मिनिट के लिये करें। इस दौरान आपको पलकें नहीं झपकानी हैं। कुछ महीनों तक इस अभ्यास को करने से आँखों को लाभ होता है।

इन चीजों का करें सेवन  : आँखों की कमजोरी दूर करने के लिये सिर्फ एक्सर्साइज ही काफी नहीं है। इसके लिये आपको कुछ पोषक तत्वों का सेवन अनिवार्य रूप से करना चाहिये। सेब, दूध, गाजर, आंवला, पपीता, हरी पत्तेदार सब्जियां आँखों के लिये बेहद फायदेमंद हैं।

इसके अलावा एक कप गाजर का रस और दो कप पालक का रस मिला कर दिन में 2-3 बार पीने से भी आँखों की रोशनी बढ़ती है। गाय का दूध पीने से भी आँखों की रोशनी बढ़ती है।

(हेल्थ ब्यूरो)


नोट :ये नुस्‍के आजमाने के पहले जानकार चिकित्‍सक से एक बार मशविरा अवश्‍य कर लें।

0 Views

Related News

(शरद खरे) शहर में दोपहिया नहीं बल्कि अब चार पहिया वाहन भी जहरीला धुंआ उगलने लगे हैं। बताया जा रहा.
पीडब्ल्यूडी की टैस्टिंग लैब . . . 02 मोबाईल प्रयोगशाला के जरिये हो रहे वारे न्यारे (अखिलेश दुबे) सिवनी (साई)।.
मासूम जान्हवी की मदद के लिये उठे सैकड़ों हाथ पर रजनीश ने किया किनारा! (फैयाज खान) छपारा (साई)। केवलारी विधान.
दो शिक्षकों के खिलाफ हुआ मामला दर्ज (सुभाष बकोड़े) घंसौर (साई)। पुलिस थाना घंसौर अंर्तगत जनपद शिक्षा केंद्र घंसौर के.
खनिज अधिकारी निर्देश दे चुके हैं 07 दिसंबर को! (स्पेशल ब्यूरो) सिवनी (साई)। जिला कलेक्टर गोपाल चंद्र डाड की अध्यक्षता.
(ब्यूरो कार्यालय) सिवनी (साई)। 2017 बीतने को है और 2018 के आने में महज एक पखवाड़े से कुछ अधिक समय.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *