हाई कोर्ट ने पूछा, लहसुन सब्जी है या मसाला

(शैलेंद्र)

जयपुर (साई)। जीएसटी को लेकर अब भी स्थितियां साफ नहीं हो पाई हैं। अब राजस्थान हाई कोर्ट ने राज्य सरकार से पूछा है कि वह बताएं कि लहसुन सब्जी है या मसाला? राज्य सरकार से यह सवाल हाई कोर्ट में दायर एक पीआईएल पर किया गया है। सरकार को एक हफ्ते के अंदर हाई कोर्ट में जवाब दायर करना है।

जोधपुर के भदवासिया आलू, प्याज और लहसुन विक्रेता संघ द्वारा यह याचिका हाई कोर्ट में दायर की गई थी। हाई कोर्ट के इस सवाल के पीछे तर्क यह है कि अगर लहसुन सब्जी है तो किसान उसे सब्जी मार्केट में बेचे और अगर मसाला है तो उसे अनाज मार्केट में बेच सके। सब्जी मार्केट में लहसुन बेचने पर टैक्स नहीं है जबकि अनाज मार्केट में लहसुन बेचने पर टैक्स लगता है।

याचिकाकर्ता की तरफ से कहा गया कि सरकार ने लहसुन को सब्जी और मसाला दोनों श्रेणी में रख दिया है। सब्जी के रूप में लहसुन के बिकने पर जीएसटी नहीं लगता और मसाले के रूप में बेचा जाए तो जीएसटी लगता है। ऐसे में उन्हें लहसुन को किस श्रेणी में रखना बेचना है।

अपर महाधिवक्ता श्याम सुंदर ने कोर्ट में कहा कि राज्य सरकार ने लहसुन के कंद अनाज मार्केट में बेचने के लिए राजस्थान कृषि उत्पादन बाजार एक्ट 1962 में अगस्त 2016 में संशोधन किया था। यह संशोधन किसानों के हित में था।

प्रदेश में लहसुन का भारी उत्पादन होने से इसकी कीमत गिर जाती है। वहीं सब्जी मार्केट में भी जगह कम होने से लहसुन सही कीमत पर नहीं बिक पाता है इसलिए सरकार ने किसानों को लहसुन खुले अनाज मार्केट में भी बेचने का आदेश दिया था।

उन्होंने कहा कि अगर अनाज मार्केट में लहसुन बेचा जा रहा है तो भी उसमें कोई टैक्स नहीं लगता। इसके विपरीत उन्हें अनाज मार्केट में सिर्फ 2 फीसदी कमीशन बिचौलिये को देना पड़ता है। जबकि सब्जी मार्केट में बिचौलियों का कमीशन 6 फीसदी है।



0 Views

Related News

(शरद खरे) शहर में दोपहिया नहीं बल्कि अब चार पहिया वाहन भी जहरीला धुंआ उगलने लगे हैं। बताया जा रहा.
पीडब्ल्यूडी की टैस्टिंग लैब . . . 02 मोबाईल प्रयोगशाला के जरिये हो रहे वारे न्यारे (अखिलेश दुबे) सिवनी (साई)।.
मासूम जान्हवी की मदद के लिये उठे सैकड़ों हाथ पर रजनीश ने किया किनारा! (फैयाज खान) छपारा (साई)। केवलारी विधान.
दो शिक्षकों के खिलाफ हुआ मामला दर्ज (सुभाष बकोड़े) घंसौर (साई)। पुलिस थाना घंसौर अंर्तगत जनपद शिक्षा केंद्र घंसौर के.
खनिज अधिकारी निर्देश दे चुके हैं 07 दिसंबर को! (स्पेशल ब्यूरो) सिवनी (साई)। जिला कलेक्टर गोपाल चंद्र डाड की अध्यक्षता.
(ब्यूरो कार्यालय) सिवनी (साई)। 2017 बीतने को है और 2018 के आने में महज एक पखवाड़े से कुछ अधिक समय.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *