हाथ ठेले फुटपाथ पर लगवाये जायें सड़कों पर नहीं

 

मुझे परेशानी शहर की सड़कों पर लगने वाले हाथ ठेलों से है। इन हाथ ठेलों के कारण पहले से ही संकरी सड़कों पर यातायात जमकर प्रभावित हो रहा है।

यदि ये हाथ ठेले फुटपाथ पर व्यवस्थित रूप से लगा दिये जायें तो भी किसी को कोई दिक्कत न हो लेकिन शहर के अनेक स्थानों पर ये हाथ ठेले सड़कों पर ही लगा दिये जाते हैं। बुधवारी में तो उन स्थानों पर भी हाथ ठेले देखे जा सकते हैं जहाँ फुटपाथ नहीं है और सड़क पर ही दुकानदारी सजा दी गयी है। नायक क्लॉथ स्टोर के सामने तिगड्डे पर हाथ ठेलों ने आवागमन को जमकर प्रभावित कर रखा है लेकिन नगर पालिका और कोतवाली से महज चंद कदमों की दूरी पर स्थित होने के बाद भी इस स्थल पर किसी ने कोई कार्यवाही करने की मंशा भी नहीं दिखायी है।

वैसे तो पूरी नेहरू रोड पर ही अतिक्रमण कर लिया गया है जिसे हटाने में पिछले कई सालों से प्रशासन को पसीना आ रहा है लेकिन जब भी अतिक्रमण हटाने की मुहिम चलायी जाती है तब नेहरू रोड की ओर देखने का कोई साहस भी अब तक किसी अधिकारी के द्वारा नहीं जुटाया जा सका है। हालांकि धन्ना सेठों के द्वारा प्रमुख मार्ग से ठीक सटकर किये गये अतिक्रमण के कारण नेहरू रोड पर यातायात वर्षों से जमकर प्रभावित हो रहा है और अब तो नागरिकों ने इस नेहरू रोड को प्रशासन की मेहरबानी से तंग गली के रूप में स्वीकार सा कर ही लिया है।

शंकर मढ़िया के सामने भी बिल्कुल ऐसे ही हालात हैं। यहाँ भी सब्जी मण्डी के सामने वाले क्षेत्र में सड़क पर खड़े हाथ ठेले देखे जा सकते हैं। ऐसा लगता है जैसे हाथ ठेले वालों ने यातायात पुलिस को ताक पर रख दिया है। कभी-कभार इस स्थान पर यातायात के सैनिक अवश्य मशक्कत करते दिख जाते हैं लेकिन ये सैनिक भी सख्त लहजे में दुकानदारों को ये सोचकर निर्देश देते हुए आगे बढ़ जाते हैं कि उनकी बात सुनी तो जानी ही नहीं है। नागरिकों को लगने लगा है कि यातायात विभाग की शह पर ही सड़कों पर हाथ ठेले लगाये जा रहे हैं वरना क्या कारण है कि प्रशासन साफ-साफ यातायात को बाधित होते हुए देख रहा है और उसके बाद भी कोई कार्यवाही नहीं की जाती है जिससे कि स्थायी समाधान निकल सके।

दरअसल यातायात विभाग होमगार्ड के सैनिकों की ड्यूटी महत्वपूर्ण स्थानों पर लगाकर अपना मजाक खुद उड़ाने लगा है। यदि इन सैनिकों के साथ यातायात का एक सिपाही ही तैनात कर दिया जाये तो भी यातायात में काफी हद तक सुधार परिलक्षित हो सकता है लेकिन यातायात विभाग जब इस दिशा में गंभीरता से सोचे तभी यह संभव हो सकता है वरना तो स्टाफ की कमी का रोना इस विभाग की पुरानी आदत हो गयी है जबकि बताया जाता है कि यातायात विभाग में इतना स्टाफ तो मौजूद है कि उससे शहर के यातायात को व्यवस्थित बनाकर रखा जा सकता है लेकिन विभाग में योग्यता की कमी के कारण शायद ऐसा नहीं हो पा रहा दिखता है।

विनय सिंह


अगर आपको भी व्यवहारिक जीवन में किसी से कोई शिकायत है और आप उसे सार्वजनिक करना चाह रहे हैं ताकि लोग उस शिकायत को पढ़कर अपनी गलति का अहसास करते हुए उसे न दोहराएं तो
आप व्हाट्स ऐप नंबर 9425175750, 9584647438 या 9300287551 अथवा मेल आईडी samacharagency@gmail.com ,hindgazette@gmail.com पर मेल कर अपनी शिकायत भेज सकते हैं.

35 Views.

Related News

(शरद खरे) शायद ही कोई ऐसा दिन होता हो जब सिवनी में सड़क दुर्घटना में घायल या मरने वालों की.
स्वास्थ्य विभाग के रंगारंग बसंत पंचमी कार्यक्रम में टूटीं सारी मर्यादाएं! (ब्यूरो कार्यालय) सिवनी (साई)। जिला चिकित्सालय परिसर में निर्माणाधीन.
(ब्यूरो कार्यालय) सिवनी (साई)। यूरोप के आधा दर्जन से ज्यादा देशों में पढ़ी जाने वाली स्ट्रेस टू हेप्पीनेस नामक किताब.
मामला मोहगाँव खवासा सड़क निर्माण का, शायद ही कुछ आऊट सोर्स करे दिलीप बिल्डकॉन (अखिलेश दुबे) सिवनी (साई)। अटल बिहारी.
(महेश रावलानी) सिवनी (साई)। मौसम में लगातार परिवर्तन जारी हैं। बुधवार से शहर में सर्दी का सितम तेज हो सकता.
40 एकड़ में बनेगा क्रिकेट का विशाल स्टेडियम बींझावाड़ा में (प्रदीप खुट्टू श्रीवास) सिवनी (साई)। सिवनी में वर्षों से क्रिकेट.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *