25 सालों बाद अब इस किरदार में नजर आएंगी रामानंद सागर की ‘सीता’

(निधि गुप्‍ता)

मुंबई (साई)। रामानंद सागर के मशहूर सीरियल रामायणइसके किरदार अरुण गोविल और दीपिका चिखलिया राम-सीता के रूप में घर-घर में मशहूर हो गए।

इसके बाद दीपिका ने बॉलिवुड का रुख किया और घर का चिराग (1989) और राजेश खन्ना के साथ रुपये दस करोड़ (1991) जैसी कुछ फिल्में की थीं लेकिन इसके बाद वह रुपहले पर्दे से एकदम गायब हो गईं।

बताया जाता है कि अब यह ऐक्ट्रेस मनोज गिरि की फिल्म गालिबसे पर्दे पर वापसी कर रही हैं। इससे पहले पिछली बार उन्हें जॉनी बख्शी की खुदाई में देखा गया था। बताया जा रहा है कि यह फिल्म आतंकी अफजल गुरु के बेटे गालिब पर बन रही है जिसमें दीपिका उनकी मां तबस्सुम का किरदार निभा रही हैं।

इस फिल्म के फर्स्ट शेड्यूल की इलाहाबाद और वाराणसी में शूटिंग पूरी कर चुकीं दीपिका ने कहा, ‘यह असल में अफजल गुरु की कहानी नहीं हैं बल्कि इसका कैरक्टर उसके जैसा है। यह एक मां-बेटे की कहानी है जिसमें दिखाया गया है जब किसी आतंकवादी को फांसी पर लटका दिया जाता है तो उसकी बीवी और बच्चों पर क्या असर पड़ता है। मैं कुछ अलग करना चाहती थी और यह किरदार पर्दे पर वापसी के लिए काफी अच्छा था।जब दीपिका से यह पूछा गया कि क्या उनकी अफजल गुरु के परिवार से मिलने का कोई प्लान है तो उन्होंने कहा, ‘अभी तो ऐसी कोई योजना नहीं है लेकिन जब हम कश्मीर में फिल्म की शूटिंग करेंगे तो इसके बारे में प्लान बनाएंगे। हम वास्तव में उनके परिवार से मिलने के लिए काफी उत्सुक हैं।

दीपिका फिल्म इंडस्ट्री से लगभग 20 सालों से दूर हैं। ऐक्टिंग को मिस करने के बारे में दीपिका ने कहा, ‘मैं अपने परिवार और बच्चों में काफी व्यस्त थी और वास्तव में मेरे पास फिल्में करने के लिए टाइम ही नहीं था। शादी के बाद पहले 5 साल तक मैं सांसद रही इसके बाद मैं बच्चों के साथ व्यस्त हो गई। वे बड़े हो रहे थे और मेरा पूरा ध्यान उनपर था। इसके अलावा मैंने काफी पेंटिंग्स भी बनाईं और कई प्रदर्शनियों का आयोजन किया लेकिन जब मेरे पास अच्छे ऑफर्स आने लगे तो मैं उन्हें मिस नहीं करना चाहती थी।

लगभग 25 सालों बाद लोग अभी भी दीपिका को सीता के रूप में ही पहचानते हैं। उन्होंने कहा, ‘मुझे अभी भी सीता ही कहा जाता है। अब मुझे इसकी आदत पड़ गई है और यह मेरी दूसरी पहचान बन चुकी है। मैं अभी भी रामायण के अपने को-स्टार्स अरुण गोविल, सुनील लाहिड़ी और सागर परिवार के संपर्क में रहती हूं।



2 Views.

Related News

(शरद खरे) सामान्य शब्दों में नगर के पालक की भूमिका अदा करने वाली संस्था को नगर पालिका कहा जाता है।.
मामला मोहगाँव-खवासा सड़क निर्माण का (संजीव प्रताप सिंह) सिवनी (साई)। अटल बिहारी वाजपेयी के प्रधानमंत्रित्व काल की महत्वाकांक्षी स्वर्णिम चर्तुभुज.
अट्ठारह करोड़ के काम को दस करोड़ में कैसे करेगा ठेकेदार! (अखिलेश दुबे) सिवनी (साई)। गृह निर्माण मण्डल के द्वारा.
(महेश रावलानी) सिवनी (साई)। जनवरी में शहर में अमूमन धूप गुनगुनी और रात के वक्त सर्दी के तेवर तीखे रहा.
सिविल सर्जन की आँखों का नूर . . . 02 (अय्यूब कुरैशी) सिवनी (साई)। स्वास्थ्य संचालनालय चाहे जो आदेश जारी.
(ब्यूरो कार्यालय) सिवनी (साई)। शासकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय सिवनी के वनस्पति शास्त्र विभाग में एक अनुपम पहल के चलते वनस्पति विज्ञान.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *