रंग लगाते ही लड़कियों के बाल उड़े, पुलिस तक पहुंचा मामला

 

 

 

 

(ब्‍यूरो कार्यालय)

इंदौर (साई)। होली खेलने के दौरान समता नगर में गुरुवार को रंग-गुलाल से एक किशोरी के बाल उड़ गए, जबकि चार लड़कियों और एक बच्चे का चेहरा, पीठ और हाथ-पैर झुलस गए। पीड़ितों के परिजन ने कॉलेज की दो छात्राओं पर केमिकल मिलाकर रंग लगाने का आरोप लगाया है। पुलिस ने रंग-गुलाल जब्त कर फॉरेंसिक लैब भेजा है। जांच रिपोर्ट आने के बाद आगे की कार्रवाई की जाएगी ।

भंवरकुआं पुलिस के मुताबिक एमवाय अस्पताल में जांच कराने के बाद पीड़ित लड़कियां थाने पर शिकायत करने आई थीं। वे अपने साथ होली खेलने के दौरान इस्तेमाल किया गुलाल और बाकी कलर भी लेकर आई थीं। टीआई संजय शुक्ला ने बताया कि संजना (15) पिता प्रदीप पाल, पलक (15) पिता ललित यादव, सुमित (8) पिता संदीप भदौरिया, प्राची (18) पिता ललित यादव, प्रियांशी (14) पिता अजय सिंह और अंजू (16) पिता सुमेर सिंह सभी निवासी समता नगर आपस में रंग खेल रहे थे। सहेलियों के साथ खेलते-खेलते संजना घर के अंदर चली गई। इसी दौरान पड़ोस में रहने वाली कॉलेज छात्रा सोना और पलक (दोनों बहनें) संजना के घर पहुंचीं। उन्होंने पहले संजना को गुलाल लगाया। मना करने के बावजूद दोनों संजना को बाहर ले गईं। उन्होंने पहले संजना को गुलाल लगाया। फिर बाल्टी में रखा गीला रंग उसके सिर पर उंडेल दिया। एक अन्य बाल्टी में रखा रंग पास में खड़ी बाकी लड़कियों पर डाल दिया। रंग लगते ही संजना सहित सभी को जलन होने लगी। सभी भागकर अपने-अपने घर चली गईं।

पानी डालते ही गिरा बालों का गुच्छा

संजना बाथरूम में पहुंची तो पानी डालते ही उसके सिर से बालों का गुच्छा झड़कर नीचे गिर गया। फिर हाथ-पैर में जलन और खुजली होने लगी। चेहरे और हाथ-पैर काले हो गए। मां मोना उसे लेकर एमवाय अस्पताल गई। प्राथमिक इलाज के बाद वे लौटी और कॉलेज छात्राओं से बात करने गईं। इस दौरान कॉलेज छात्राओं के परिजन का उनसे विवाद हो गया। इसी दौरान रंग से झुलसी बाकी लड़कियां भी आ गईं। इसके बाद सभी थाने पहुंचीं।

पहले से पता था छात्राओं को

मोना के मुताबिक एमवाय अस्पताल में स्किन के डॉक्टर तो नहीं मिले, लेकिन जांच करने वालों ने बताया कि रंग के साथ केमिकल मिलाकर लगाया गया है जिससे रिएक्शन हुआ। उनका आरोप है कि जिन छात्राओं ने रंग लगाया, उन्हें पहले से पता था। इसी कारण उन्हें कोई समस्या नहीं हुई। शुक्रवार को पुलिस ने बेटी के बयान लिए हैं। उधर, जिन छात्राओं पर आरोप है, उनका कहना है कि उन्हें नहीं पता था कि रंग में केमिकल मिला हुआ है।

रंगों को जांच के लिए फॉरेंसिक लैब भेजा

थानेदार प्रियंका जैन के मुताबिक कुछ पीड़ित लड़कियों के बयान लिए गए हैं। रंग के कारण कुछ बच्चियों की पीठ जल गई है। कुछ के हाथ-पैर काले पड़ गए। इससे लग रहा है कि केमिकल रिएक्शन के कारण यह हुआ है।

9 thoughts on “रंग लगाते ही लड़कियों के बाल उड़े, पुलिस तक पहुंचा मामला

  1. Pingback: UNICC
  2. Pingback: go4rex estafa
  3. Pingback: replica rolex

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *