नया शिक्षण सत्र : अब फिर ‘स्कूल चले हम’

 

 

 

 

(ब्‍यूरो कार्यालय)

जबलपुर (साई)। नई किताबों का उत्साह होगा, वहीं नई कक्षा में बैठने का इंतजार भी। होली फेस्टिवल पर विराम लग चुका है और अब नया सेशन शुरू होने वाला है।

अब स्टूडेंट्स कुछ दिन के लिए खुद को पूरी तरह स्टडी में बिजी रखने वाले हैं, क्योंकि यह सेशन स्टूडेंट्स के लिए बहुत महत्वपूर्ण होगा। सोमवार से शुरू हो रहे नए सेशन में स्टूडेंट्स को पूरे साल के कोर्स और आने वाले एग्जाम के बारे में ब्रीफ किया जाएगा।

खरीदारी के लिए पहुंच रहे पैरेंट्स

नए सेशन की तैयारी के लिए शहर में रौनक दिखाई दे रही है। बाजारों में पैरेंट्स खरीदारी के लिए पहुंच रहे हैं। चाहे गोरखपुर का मार्केट हो या फिर मालवीय चौक के पास की स्टेशनरी दुकानें। अंधेर देव में स्कूल बैग का मार्केट हो या फिर यूनिफॉर्म की दुकान। इन दिनों इन जगहों पर सुबह से शाम तक भीड़ का माहौल दिखाई दे रहा है।

बच्चे मनचाही स्टेशनरी पसंद कर रहे हैं, वही पैरेंट्स किताबें खरीदने के लिए घंटों दुकान में समय खपा रहे हैं। यह सब केवल इसलिए है, क्योंकि सोमवार से सीबीएसइ स्कूल का सत्र शुरू होने वाला है, वहीं एक अप्रैल से तमाम एमपी बोर्ड और केंद्रीय विद्यालय खुल जाएंगे। स्कूल के नए सेशन का असर ही है, जो शहर के मार्केट में इन दिनों दिखाई दे रहा है। पैरेंट्स से लेकर बच्चे खरीदारी में व्यस्त हैं, वहीं स्कूलों में भी नए सत्र की तैयारी का दौर चल रहा है।

नई क्लास में जाने की खुशी बच्चों में बहुत है। इसके साथ ही नई किताबों को पढऩे का क्रेज भी उनमें साफ दिखाई दे रहा है। अगली क्लास की किताबें खरीदने के लिए बच्चे पैरेंट्स के साथ खुद भी बुक स्टोर पहुंच रहे हैं और किताबें ले रहे हैं। एक बुक स्टोर में किताबें खरीदने पहुंची प्रार्थना ने बताया कि वह अगली क्लास में जाने के लिए बहुत एक्साइटेड हैं। मम्मी के साथ खुद ही किताबें खरीदने आई हैं और कंपास बॉक्स सहित अन्य स्टेशनरी आइटम भी वे अपनी पसंद का खरीद रही हैं।

टीवी में दिखने वाले कार्टून का अनुभव बच्चे अपने आसपास चाहते हैं। यही वजह है कि स्कूल बैग में बच्चे सबसे ज्यादा कार्टून कैरेक्टर पसंद कर रहे हैं। इन दिनों सबसे ज्यादा फ्रोजन कैरेक्टर पसंद किए जा रहे हैं। इसके अलावा छोटा भीम, स्पाइडर मैन, मोटू पतलू जैसे कैरेक्टर हमेशा पसंद किए जाने वाले हैं।

2 thoughts on “नया शिक्षण सत्र : अब फिर ‘स्कूल चले हम’

  1. Pingback: Regression Testing

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *