सड़क के चौड़ीकरण में जन प्रतिनिधियों की सलाह न ले प्रशासन!

 

इस स्तंभ के माध्यम से मैं जिला प्रशासन से अपील करना चाहता हूँ कि उसके द्वारा कटंगी नाका से मठ होते हुए छिंदवाड़ा चौक जाने वाली सड़क का चौड़ीकरण अविलंब किया जाये।

इस मार्ग पर यातायात अत्यंत सघन हो चुका है जिसके कारण वाहन चालकों को रेंगते हुए चलना पड़ रहा है। सघन यातायात के बावजूद कई वाहन चालक फर्राटा भरते हुए वाहन चालन इस मार्ग पर करते हैं जिसके कारण इन दिनों इस रोड पर गंभीर दुर्घटनाओं का अंदेशा बहुत बढ़ गया है, छोटी-मोटी दुर्घटनाएं तो आये दिन घटित हो ही रहीं हैं।

हाल ही में इस मार्ग का नवीनीकरण किया गया है लेकिन चौड़ाई यथावत रखे जाने के कारण लोगों में निराशा है। प्रशासन ने इस सड़क के चौड़ीकरण के पूर्व यातायात को देखते हुए अतिक्रमण हटाने का रत्ती मात्र भी प्रयास नहीं किया गया जबकि इस मार्ग के दोनों ओर पक्के निर्माण करके जमीन को दबा दिया गया है।

जिला प्रशासन के संज्ञान में यह बात लाना भी आवश्यक है कि कटंगी नाका से छिंदवाड़ा चौक को स्पर्श करने वाले मार्ग पर जिन लोगों ने अतिक्रमण कर लिया है उनमें से कई लोग अपने अतिक्रमण तुड़वाने के लिये भी तैयार हैं लेकिन प्रशासन की इसमें कोई दिलचस्पी न लेने के कारण ऐसे लोगों में यह सोचकर निराशा है कि इस क्षेत्र का विकास कैसे होगा और सौंदर्यीकरण किस तर्ज पर किया जा सकेगा।

गौर करने वाली बात यह है कि इस मार्ग पर ग्रामीण क्षेत्र से ज्यादातर वाहन आते हैं और जाते हैं। यह एक ऐसा मार्ग है जो कटंगी नाका से छिंदवाड़ा चौक क्षेत्र पहुँचने के लिये शॉर्ट कट के रूप में इस्तेमाल किया जाता है। यही नहीं बल्कि महावीर मढ़िया, सिवनी का प्रमुख क्षेत्र बुधवारी बाजार और यहाँ तक कि बस स्टैण्ड जाने के लिये भी लोगों के द्वारा इसी मार्ग का इस्तेमाल किया जाता है जिसके कारण यहाँ यातायात पिछले कई वर्षों से अत्यंत सघन हो चुका है।

जिला प्रशासन से यह भी अपेक्षा है कि इस मार्ग के चौड़ीकरण के लिये यदि कोई योजना बनायी जाती है तो उसके लिये यह प्रयास अवश्य रहे कि राजनीति के क्षेत्र से जुड़े जन प्रतिनिधियों की सलाह न ली जाये क्योंकि इनमें से अधिकांश जन प्रतिनिधि पिछड़ी मानसिकता के साबित हो चुके हैं और उनके द्वारा नाली टू नाली चौड़ीकरण करवाने के बेतुके सुझाव दिये जा सकते हैं जो कतई उचित नहीं माना जायेगा। ऐसा उदाहरण कटंगी नाका से शुक्रवारी जाने मार्ग के नवीनीकरण के दौरान देखने को मिल चुका है।

जिला प्रशासन के द्वारा आने वाले कम से कम बीस वर्षों के यातायात के दबाव को दृष्टिगत रखते हुए यदि मार्ग के चौड़ीकरण की कोई ठोस योजना बनायी जाती है तो अधिकांश क्षेत्र वासियों के द्वारा उसका स्वागत ही किया जायेगा क्योंकि यह क्षेत्र वर्षों से पिछड़ा हुआ ही नजर आता है। मार्ग के चौड़ा हो जाने से यातायात तो सुगम होगा ही होगा साथ ही साथ व्यापारियों के लिये भी कई विकल्प खुल जायेंगे। ध्यान देने वाली बात यह भी है कि निकट भविष्य में ब्रॉडगेज रेल सेवाएं भी आरंभ हो सकती हैं तब यातायात का दबाव अचानक ही काफी तेजी से बढ़ सकता है इसलिये प्रशासन के द्वारा आने वाली समस्याओं को दृष्टिगत रखते हुए पहले से ही कदम उठाये जाने की अपेक्षा है।

एक नागरिक

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *