भाजपा संगठन को भरोसा मान जाएंगे बोधसिंह

 

 

 

 

(ब्यूरो कार्यालय)

बालाघाट (साई)। बालाघाट संसदीय क्षेत्र से सांसद बोधसिंह भगत का पार्टी हाईकमान द्वारा टिकट काटकर सिवनी निवासी ढालसिंह बिसेन को दिए जाने के बाद से ही बोधसिंह व उनके कार्यकर्ताओं ने विरोधी सुर अपनाते हुए मोर्चा खोल दिया है।

रविवार को जहां कार्यकर्ताओं ने बोधसिंह के समर्थन में भाजपा कार्यालय में तालाबंदी कर प्रदर्शन किया तो वहीं मंगलवार को बोधसिंह भगत ने नामाकंन फार्म लेकर खलबली मचा दी। हालांकि इस बीच बुधवार को संगठन मंत्री सुहास भगत ने बैठक लेकर डैमेज कंट्रोल करने की कोशिश जरूर की।

संगठन को भरोसा है कि बोधसिंह भगत को मनाने में वे कामयाब हो जाएंगे और 8 अप्रैल को भाजपा के अधिकृत प्रत्याशी ढालसिंह बिसेन की फार्म भरेंगे। इतना ही नहीं भाजपा के अधिकृत प्रत्याशी बिसेन ने भी भगत के घर जाकर उन्हें मनाने की कोशिश की।

नाराज होना स्वाभाविक पर संगठन मजबूत : संगठन मंत्री द्वारा बैठक लेकर 8 अप्रैल तक का कार्यक्रम तैयार करने के बाद भाजपा जिलाध्यक्ष रमेश रंगलानी ने बताया कि बोधसिंह कोई बगावती सुर नहीं अपना रहे हैं, उन्हें पार्टी मनाने का प्रयास कर रही है और मान जाएंगे। उन्होंने कहा कि टिकट न मिलने से दुखी होना स्वाभाविक बात है, लेकिन उन्हें समझा लिया जाएगा।

उन्होंने बताया कि संगठन की बैठक के दौरान ही बोधसिंह भगत से चर्चा हुई थी उन्होंने बागी होकर लड़ने की बात नहीं कही है और ऐसा भी नहीं प्रतीत होता है कि वे चुनाव लड़ेंगे। उन्हें समझा लिया जाएगा।

नामाकंन फार्म लेना सामान्य प्रक्रिया : भगत द्वारा फार्म लिए जाने पर पूर्व कृषि मंत्री व बालाघाट विधायक गौरीशंकर बिसेन ने कहा कि फार्म लेना सामान्य प्रक्रिया है। फार्म ले लेने से भाजपा के सभी कार्यकर्ता प्रत्याशी नहीं हो जाते। उन्होंने कहा कि अधिकृत प्रत्याशी ही फार्म भरेगा जिसके साथ पूरा संगठन मौजूद रहेगा।

टिकट का वितरण राष्ट्रीय संगठन का काम : बोधसिंह भगत का आरोप कि गौरीशंकर बिसेन ने उनकी टिकट काटी का जवाब देते हुए उन्होंने कहा कि वास्तविकता पता चलेगी तो स्वयं ही विरोध करना छोड़ देंगे। टिकट का फैसला राष्ट्रीय अध्यक्ष, प्रदेश अध्यक्ष और राष्ट्रीय स्तर का संगठन करता है। किसी एक व्यक्ति के कहने और सुझाव देने से फैसले नहीं होते।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *