ठाठ से रह रहा है विजय माल्या

 

 

 

 

हर सप्ताह 16 लाख रुपये कम खर्च करने को तैयार  : एसबीआई

(ब्‍यूरो कार्यालय)

नई दिल्‍ली (साई)। भारतीय स्‍टेट बैंक सहित कई सरकारी बैंकों का 9 हजार करोड़ रुपया लेकर विदेश भागे कारोबारी विजय माल्‍या ने बैंकों के उससे बकाये की वसूली की कोशिशों को रोकने के लिए कानूनी लड़ाई शुरू कर दी है।

एसबीआई के वकील ने लंदन की कोर्ट में बुधवार को बताया कि माल्या के वकील ने स्टेट बैंक ऑफ इंडिया से कहा है कि उनका मुवक्किल अपना खर्च घटाकर 29,500 पाउंड (करीब साढ़े 26 लाख रुपये) प्रतिमाह करने के लिए तैयार है। अभी माल्या हर सप्ताह करीब 18,300 पाउंड (करीब साढ़े 16 लाख रुपये) खर्च करता है।

भारतीय स्टेट बैंक के नेतृत्व में भारतीय बैंकों के एक ग्रुप को भगोड़े शराब कारोबारी विजय माल्या के ब्रिटेन के आईसीआईसीआई बैंक खाते में पड़े 2,58,000 पाउंड हासिल करने का अंतरिम आदेश मिला था। बैंक इस राशि को जब्त करना चाह रहे हैं।

एसबीआई के वकील ने कोर्ट में एक लिखित याचिका में कहा है कि माल्या अभी ऐशो-आराम से जी रहा है और खूब ठाठ के साथ रह रहा है। वह कोई मुश्किल या आर्थिक तंगी के दौर से नहीं गुजर रहा है, उसकी हालत ऐसी कतई नहीं जैसी किसी शख्स की सड़क पर आ जाने पर होती है। उसके पास आय के अन्य स्त्रोत भी हैं। हर माह उसे 7500 पाउंड की आय किंगफिशर बीयर यूरोप लिमिटेड से होती है। अपने परिवार की धन संपदा से भी उसे आय होती है जो कि ज्यादातर ट्रस्ट में हैं।