कौन हैं खान-ए-आब वाले चच्चा!

(सादिक खान)

सिवनी (साई)। एक ओर जहाँ प्रशासन की घोर असफलता, जलावर्धन योजना की डेड लाईन के बाद आरंभ न हो पाने के चलते समूचा जिला भयावह जल संकट से जूझ रहा है वहीं ऐसे में सिवनी जनपद की ग्राम पंचायत छिड़िया पलारी के ग्राम चूना भट्टी के मो.जाहिद खान इस समय संकट मोचन की भूमिका में मिसाल कायम कर उदाहरण पेश कर रहे हैं।

जल संकट के इस दौर में जबकि धनाढ्य वर्ग अपने संचित जल स्त्रोतों से पानी का व्यापार कर रहे हैं वही बरघाट बायपास आईटीआई के सामने स्थित चूना भट्टी मस्जिद के सदर और किसान अपने खेत के कुंए और बोर से ग्राम वासियों को स्वयं के व्यय पर निःशुल्क पेयजल और काफी हद तक निस्तारी पानी उपलब्ध कराते हुए सूखे के इस दौर में सबाब का काम कर रहे हैं।

रोज सुबह वे अपने बोर के माध्यम से एक से डेढ़ घण्टे निःशुल्क पानी ग्राम वासियों को दे रहे है जिससे चूना भट्टी, दफाईटोला सहित आसपास के ग्रामीण परिवार लाभान्वित हो रहे है। मो.जाहिद खान के इस कार्य के चलते जनता अब उन्हें प्यार से खान-ए-आब यानी पानी वाले चच्चा भी कहने लगी है। लोगों का कहना है कि अन्य सक्षम लोगों को इनसे प्रेरणा लेना चाहिये।