कम चहल पहल वाले अंधेरे क्षेत्र बने मयजदों की पसंदीदा जगह

 

(अपराध ब्यूरो)

सिवनी (साई)। सिवनी में शराब का विक्रय दिन प्रतिदिन बढ़ता ही जा रहा है। शराब का विक्रय किये जाने के बाद उसका सेवन मदिरा प्र्रेमियों के द्वारा कहाँ किया जा रहा है इस संबंध में प्रशासन सुध लेता नहीं दिख रहा है।

वर्तमान में स्थिति यह है कि सिवनी में अहाते बंद ही कर दिये गये हैं। ऐसे में मदिर प्रेमियों के द्वारा शराब का सेवन उन स्थानों पर किया जा रहा है जहाँ पुलिस की गश्ती न के बराबर ही होती है। ऐसे स्थानों में खेल के मैदान, पुरानी रेल लाईन, बायपास के लिये बनाये गये पुल के नीचे जैसे ऐसे स्थान प्रमुख हैं जहाँ रात के समय अंधकार ही पसरा होता है।

इनमें से भी सबसे ज्यादा शराबखोरी सिवनी में भैरोगंज क्षेत्र से निकलने वाली परतापुर रोड पर होते हुए रात के समय सहज ही देखी जा सकती है। सिवनी से रोजाना अपना काम निपटाकर, घर लौटने वाले एक ग्रामीण ने बताया कि वे या उनके क्षेत्र के गाँव के अन्य लोग जब रात के समय अपने – अपने घरों को लौट रहे होते हैं तब उन्हें इन मदिरा प्रेमियों के बीच से गुजरकर जाना होता है जिसके कारण कई बार उनके अंदर दहशत भी भरी हुई होती है।

एक अन्य ग्रामीण ने बताया कि कई बार शराबी उन्हें रोककर उनके साथ बदसलूकी करते हैं हालांकि फिर वे अनुनय विनय के बाद जाने भी दे देते हैं। ग्रामीणों का कहना है कि खुले में शराब खोरी यदि नहीं रोकी जा सकती है तो भी शहर से गाँव की ओर जाने वाले रास्तों पर पुलिस की गश्ती को बढ़ाया जाना चाहिये ताकि ग्रामीणों के मन से इन शराबियों के भय को दूर किया जा सके।