सुविधाओं को तरस रही नयी सब्जी मण्डी

व्यापारियों ने की सुरक्षा, बैंक और एटीएम की माँग

(अखिलेश दुबे)

सिवनी (साई)। लगभग एक माह पूर्व नागपुर नाके के पास आरंभ की गयी नयी थोक सब्जी मण्डी में अभी भी बुनियादी सुविधाओं का अभाव बना हुआ है। भूखण्डों के आवंटन की प्रक्रिया पर भी सवालिया निशान लग रहे हैं। व्यापारियों का कहना है कि नयी सब्जी मण्डी में सुविधाएं उपलब्ध करायी जायें।

इधर, कृषि उपज मण्डी सूत्रों ने समाचार एजेंसी ऑफ इंडिया को बताया कि पिछले माह आरंभ करायी गयी नयी सब्जी मण्डी में शुरूआती तौर पर पानी आदि की सुविधाएं तो मुहैया करवा दी गयी है, पर यहाँ सुरक्षा का मामला सबसे अहम है। आये दिन होने वाले विवादों का कारण भी यहाँ सुरक्षा व्यवस्था का न होना ही है।

सूत्रों ने बताया कि मण्डी आने वाले व्यापारियों का कहना है कि अगर खरीदी के समय उनके पास पैसे कम हो जाते हैं तो उन्हें मण्डी से काफी दूर जाकर एटीएम से पैसे निकालने पड़ते हैं। इसके अलावा थोक व्यापारियों को भी यह समस्या आ रही है कि उनके द्वारा दिन भर की बिक्री को नकद लेकर लगभग एक से दो किलोमीटर दूर स्थित बैंक जाना पड़ता है जिससे उनको भी असुरक्षा की भावना का सामना करना पड़ता है।

सूत्रों ने आगे बताया कि व्यापारियों का यह भी कहना है कि थोक सब्जी मण्डी निर्जन स्थान पर है। ऐसी स्थिति में वे अपना माल रात के समय किसके भरोसे छोड़कर जायें। व्यापारी चाहते हैं कि रात के समय मण्डी में सुरक्षा कर्मियों की तैनाती की जाये ताकि वे अपना माल वहाँ छोड़कर घर जा सकें।

सूत्रों ने बताया कि व्यापारी चाहते हैं कि थोक सब्जी मण्डी में सब्जियों और फल आदि को रखने के लिये कोल्ड स्टोरेज और गोदाम की व्यवस्था भी होना चाहिये। इतना ही नहीं सब्जी तुलाई के लिये आसपास धर्म कांटा नहीं होने के कारण व्यापारियों को माल तुलवाने के लिये बहुत दूर जाना पड़ता है।

वहीं, व्यापारियों के बीच चल रहीं चर्चाओं के अनुसार नयी थोक सब्जी मण्डी को स्थानांतरित हुए पर्याप्त समय बीतने के बाद भी यहाँ सुरक्षा के साधनों का अभाव बना ही हुआ है। यहाँ पुलिस चौकी बनाये जाने और मण्डी परिसर को सीसीटीवी कैमरों की जद में लाने की बात भी व्यापारियों के द्वारा की जा रही हैं।

कहा जा रहा है कि जबसे यहाँ मण्डी स्थानांतरित हुई है उसके बाद नयी सब्जी मण्डी में विवाद की स्थितियां लगातार ही निर्मित हो रही हैं। यहाँ विवाद के आधा दर्जन से ज्यादा मामले अब तक घटित हो चुके हैं। कुछ मामले कोतवाली की दहलीज तक भी पहुँचे पर आपसी समझौते के बाद उन्हें निपटा दिया गया।

व्यापारियों का यह भी कहना है कि थोक सब्जी मण्डी और फल मण्डी के लिये अलग – अलग स्थान चिन्हित किया जाना चाहिये। वर्तमान में सब कुछ साथ – साथ ही संचालित हो रहा है। इसके अलावा व्यापारियों के लिये कैंटीन, वाहन पार्किंग और शुद्ध पेयजल की व्यवस्था भी प्रशासन को यहाँ करना चाहिये।

वर्तमान में अभी मण्डी लगभग सात एकड़ के क्षेत्र में स्थित है। इसके अलावा मण्डी के लिये पीछे और भी जमीन है, जिसमें से यदि इतनी ही जमीन और अधिग्रहीत की जा सकती है, जिससे सारी समस्याओं का हल हो सकता है। व्यापारियों का कहना है कि मण्डी में दुकानों के आवंटन में भी गोलमाल हो रहा है। कई व्यापारियों को एक से अधिक दुकानें आवंटित कर दी गयी हैं, जिससे दूसरे जरूरतमंदों को परेशान होना पड़ रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *