पिकप की टक्कर से सीआरपीएफ महिला जवान गंभीर

 

 

जिले भर में बेलगाम दौड़ रहे वाहनों पर नहीं परिवहन विभाग का अंकुश, जिला चिकित्सालय में अव्यवस्थाएं देख कलेक्टर ने लगायी फटकार!

(अय्यूब कुरैशी)

सिवनी (साई)। बण्डोल थानांतर्गत क्षेत्र में राहीवाड़ा के समीप चुनाव के लिये एक स्थान से दूसरे स्थान पर जा रहे अर्द्ध सैनिक बल की कंपनी की एक महिला आरक्षक अंधी गति से भाग रही एक पिकप की चपेट में आ गयी। घायल को जिला चिकित्सालय ले जाया गया, जहाँ अव्यवस्थाओं को देखते हुए महिला जवान को जठार अस्पताल में दाखिल कराया गया।

प्राप्त जानकारी के अनुसार केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) की एक कंपनी गत दिवस गुजरात के गाँधी नगर में चुनाव संपन्न कराने के उपरांत रेल मार्ग से जबलपुर पहुँची थी। इसके बाद यह कंपनी सड़क मार्ग से बालाघाट के लिये शुक्रवार 26 अप्रैल की सुबह रवाना हुई।

सीआरपीएफ की 135 बटालियन के जवान लगभग आधा दर्जन विशेष बसों के जरिये सड़क मार्ग द्वारा जबलपुर से सिवनी होते हुए बालाघाट जा रहे थे। बण्डोल थानांतर्गत राहीवाड़ा के पास बस का टायर पंचर हो गया। बस के चालक परिचालक के द्वारा टायर बदला जा रहा था और इसी दौरान भीषण गर्मी के चलते बस में सवार जवान नीचे उतरने लगे।

बताया जाता है कि इसी बीच महिला आरक्षक शुभाश्री साहू बस से उतरकर सड़क पार कर रहीं थीं तभी तेज गति से जा रही पिकप क्रमाँक एमपी 20 जीबी 1584 ने उन्हें टक्कर मार दी। अचानक हुई यह टक्कर इतनी जोरदार थी कि शुभाश्री मौके पर ही बेहोश हो गयीं।

बताया जाता है कि इसके उपरांत एंबूलेंस के जरिये शुभाश्री को जिला चिकित्सालय ले जाया गया। इस बात की सूचना मिलते ही जिला कलेक्टर प्रवीण सिंह, जिला पुलिस अधीक्षक ललित शाक्यवार, प्रभारी मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ.के.सी. मेश्राम भी तत्काल ही जिला चिकित्सालय पहुँच गये। जिला चिकित्सालय में उपचार से संबंधित अव्यवस्थाएं देखकर जिला कलेक्टर के द्वारा सीएमएचओ डॉ.मेश्राम की जमकर खबर ली गयी।

अस्पताल के सूत्रों ने समाचार एजेंसी ऑफ इंडिया को बताया कि जिला चिकित्सालय की व्यवस्थाओं से नाखुश सीआरपीएफ के अधिकारियों और जिला प्रशासन के अधिकारियों ने तत्काल ही घायल को शहर के जठार अस्पताल के आईसीसीयू में शिफ्ट करवा दिया जिसके बाद उनका उपचार आरंभ हो सका।

इसी बीच जिला कलेक्टर प्रवीण सिंह के द्वारा बालाघाट से वेंटीलेटर वाली एक एंबूलेंस तत्काल सिवनी भेजने की व्यवस्था करवायी गयी। इसके अलावा उनके द्वारा नागपुर के एक विशेषज्ञ चिकित्सक एवं जीवन रक्षक उपकरणों के साथ ही साथ वेंटिलेटर युक्त एंबूलेंस की व्यवस्था भी करवा दी गयी।

जठार अस्पताल में चिकित्सकों के द्वारा लगभग चार घण्टे तक शुभाश्री का इलाज किया जाता रहा। इसके बाद नागपुर के चिकित्सकों से परामर्श के उपरांत शुभाश्री को एंबूलेंस के जरिये नागपुर भेज दिया गया। इन पंक्तियों के लिखे जाने तक उनका उपचार जारी है। शुभाश्री के उपचार के दौरान पूरे समय जिला कलेक्टर प्रवीण सिंह अस्पताल में ही उपस्थित रहे और उनके द्वारा उपचार में हर संभव मदद के प्रयास भी किये जाते रहे।

शुभाश्री का इलाज नागपुर में जारी है. वे अभी बेहोशी की हालत में ही हैं. शनिवार को सुबह उनकी स्थिति के बारे में जानकारी दी जा सकेगी.

विनीता डेंकले,

कमाण्डेंट, सीआरपीएफ बटालियन.