गर्मी के तेवरों ने किया हलाकान

 

 

पारा पहुँचा 42 के पार, न्यूनतम तापमान बढ़ने से हो रहा रात में भी गर्मी का अहसास

(महेश रावलानी)

सिवनी (साई)। भारतीय मौसम विभाग ने पूर्वी मध्य प्रदेश के सिवनी सहित कई जिलों में लू चलने का एलर्ट जारी किया है। शुक्रवार 26 अप्रैल की दोपहर ढाई बजे तापमान 42 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। दिन का अधिकतम तापमान 42.4 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया है, जबकि दिन का न्यूनतम तापमान 22.4 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया है।

शुक्रवार को सुबह से ही तेज धूप और पश्चिमी हवाओं के कारण पारे में उछाल आता दिखा। दिन में शहर की सड़कों पर तेज धूप के कारण कर्फ्यू सा नजारा दिखायी पड़ा। दो पाहिया वाहन चालकों का कहना है कि तेज गर्म हवाओं और धूप के कारण सडक़ें भी आग की तरह तप रही हैं, जिससे सड़क पर चलने के दौरान झुलस जाने जैसा एहसास हो रहा है।

लोगों की मानें तो गर्मी के तेवर झुलसाने वाले लग रहे हैं। लोगों के गर्मी से बचने के जतन भी असफल हो रहे हैं। पंखे और कूलर भी ठण्डक नहीं पहुँचा पा रहे हैं। गर्मी के कारण लोगों के काम जमकर प्रभावित हो रहे हैं। फील्ड वर्क करने वाले तेज गर्मी के कारण काम नहीं कर पा रहे हैं। लू के डर से लोग घरों में समय बिताने का प्रयास कर रहे हैं। जिन लोगों को जरूरी काम होते हैं, वही दोपहर में बाहर निकल रहे हैं।

गर्मी के इस मौसम में सबसे ज्यादा मरण जिला अस्पताल के मरीजों की हो रही है। अस्पताल में कूलर्स की व्यवस्था नहीं हो पाने के कारण मरीज मानो उबल रहे हैं। अस्पताल के सूत्रों की मानें तो अस्पताल प्रशासन के द्वारा 50 से ज्यादा कूलर खरीदने का प्रस्ताव भी बना लिया गया है।

इसके साथ ही साथ यात्री बस में भी गर्मी से यात्रियों की हालत खस्ता है। बस से यात्रा करने वाले यात्री भी गर्मी से हलाकान हो रहे हैं। अप्रैल माह में ही झुलसा देने वाली गर्मी को देखकर लोगों का कहना है कि इस बार मई में हालत पतली हो जायेगी। सरकारी और निजि बस स्टैण्ड पर पानी की माकूल व्यवस्था नहीं होने के कारण इन स्थानों पर यात्री परेशान होते भी दिख रहे हैं।

मौसम विभाग के सूत्रों ने समाचार एजेंसी ऑफ इंंिडया को बताया कि मौसम विज्ञानियों के मुताबिक अभी गर्मी से राहत मिलने के आसार नहीं हैं। सूत्रों ने बताया कि वर्तमान में कोई वेदर सिस्टम नहीं है। इसके चलते वातावरण में नमी नहीं है। इसके कारण आसमान साफ है।

सूत्रों की मानें तो पड़ौसी राज्य राजस्थान, गुजरात भीषण गर्मी की चपेट में हैं। वहाँ से आने वाली गर्म हवाओं के कारण दिन और रात के तापमान में लगातार बढ़ौत्तरी दर्ज की जा रही है। शुक्रवार को 07 से 10 किलोमीटर प्रति घण्टा की रफ्तार से हवाएं चलीं।

खूब पीयें पानी : चिकित्सकों का कहना है कि गर्मी में ज्यादा से ज्यादा पानी पीयें और पेय पदार्थ का उपयोग करें, ताकि शरीर में पानी की कमी न हो पाये। घर से निकलते समय पानी पीकर ही निकलें और तली, भुनी चीजों से परहेज करें। खाने में फलों का जूस या फिर फल खायें। इससे बॉडी में पानी की कमी नहीं होगी और ऊर्जा का भी संचार होगा।

निकलें चेहरा ढंककर : चेहरे और शरीर को कपड़े से ढंकर निकलें, धूप से घर या गंतव्य तक पहुँचने के कुछ देर बाद ही कुछ खायें और पीयें। लू लगने की आशंका लगे तो आम की गुठलियों को पीसकर पूरे शरीर में पानी के साथ मिलाकर लगायें, इससे शरीर को ठण्डक मिलेगी और लू का प्रकोप भी कम होगा।