पानी की समस्या को लेकर काँग्रेस ने घेरा भाजपा को

 

 

काँग्रेस प्रवक्ता ने बताया जलावर्धन योजना के बारे में

(ब्यूरो कार्यालय)

सिवनी (साई)। लोकसभा चुनावों के दौरान पानी की भारी किल्लत होने के बाद अब मतदान के उपरांत काँग्रेस ने पेयजल आपूर्ति पर भाजपा को घेरने का प्रयास किया है।

काँग्रेस प्रवक्ता राजिक अकील के द्वारा जारी विज्ञप्ति के अनुसार नवीन जलावर्धन योजना भीमगढ़ से बबरिया नगर में नव निर्मित 03 टंकियों अशोक नगर, भैरोगंज, रेलवे स्टेशन तिलक वार्ड जिनकी क्षमता 04 लाख लीटर प्रति टंकी एवं पुरानी बबरिया की टंकी की क्षमता 01 लाख लीटर पानी की है भरी जा रही है।

उन्होंने आगे कहा कि इस प्रकार इस योजना से सिवनी नगर पालिका क्षेत्र लगभग 18 लाख लीटर पानी अतिरिक्त प्राप्त होना आरंभ हो गया है। अशोक नगर और भैरोगंज की टंकी में 02-02 लाख लीटर अतिरिक्त और पुरानी बबरिया टंकी में और 01 लाख लीटर अतिरिक्त पानी भरा जा रहा है।

उन्होंने बताया कि पुरानी जलावर्धन योजना चारों टंकी सर्किट हाउस, बरघाट नाका, टिग्गा टंकी और फिल्टर प्लांट छिंदवाड़ा चौक जिनकी क्षमता लगभग 50 लाख लीटर पानी देने की है जब नवीन जलावर्धन योजना का पानी सिवनी नगर पालिका क्षेत्र में मिलना प्रारंभ नहीं हुआ था तब यही चार टंकी नगर में जलापूर्ति करती थीं।

उन्होंने कहा कि तब इतनी पानी की समस्या सिवनी में कभी नहीं हुई जितनी समस्या वर्तमान में बनी हुई है। 18 लाख लीटर अतिरिक्त पानी नवीन जलावर्धन योजना से प्रतिदिन मिलने के बाद भी नगर के अधिकांश वार्डाे में पानी के लिये हाहाकार मचा हुआ है। वार्ड के लोग रात – दिन पानी को लेकर परेशान हैं।

उन्होंने कहा कि यहाँ प्रश्र यह उठता है कि जब नवीन जलावर्धन योजना से अशोक नगर भैरोगंज, तिलक वार्ड में निर्मित पानी की टंकियों से जब जलापूर्ति हो रही है तो उन वार्डाें में पुरानी जलावर्धन योजना से जो पानी दिया जा रहा था वह पानी बचना चाहिये और जिन क्षेत्रों में पानी की समस्या बनी वहाँ पानी पर्याप्त मात्रा में मिलना चाहिये।

राजिक अकील ने आगे कहा कि एक कारण यह भी है पुराने जलावर्धन योजना में अधिकांश बिजली की समस्या पाईप लाईन का फूटना और ग्रामीण क्षेत्रों में कभी भी लोगों द्वारा वॉल्व खोल देना जिससे नगर में पानी की समस्या बनी रहती है। नवीन जलावर्धन योजना की क्षमता लगभग 87 लाख लीटर पानी प्रतिदिन देने की तो पुरानी योजना को ग्रामीण क्षेत्रों के लिये छोड़ देना चाहिये और नयी योजना से नगर की नयी एवं पुरानी टंकियों को भरा जाना चाहिये जिससे नगर में बार – बार जलापूर्ति में रूकावट से छुटकारा मिल सके।

जिला काँग्रेस प्रवक्ता ने कहा कि ऐसा प्रतीत होता है कि सिवनी नगर पालिका में जलापूर्ति के लिये कोई तकनीकि अमला नहीं है। जलापूर्ति का काम ऐसे लोग देख रहे हैं, जिन्हें ज्यादा तकनीकी ज्ञान नहीं है। यही कारण है कि 18 लाख लीटर पानी अतिरिक्त मिलने के बाद भी सिवनी नगर के लोगों को पानी की समस्या का सामना करना पड़ रहा है।

राजिक अकील का कहना है कि यदि जलापूर्ति का कार्य प्रभारी सीएमओ और इंजीनियर सिद्धार्थ दुबे जैसे पर्याप्त अनुभव नहीं रखने वाले अधिकारी देखेंगे तो नगर में इतनी अधिक मात्रा में पानी होने के बाद भी लोगों को पानी मिलना मुश्किल हो जायेगा और इसी तरह सिवनी नगर में पानी की समस्या बनी रहेगी। उन्होंने जिला कलेक्टर से अपेक्षा व्यक्त की है कि इसके लिये लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग के अनुभवी अभियंताओं की सेवाएं ली जाकर समस्या का समाधान किया जाना चाहिये।