अघोषित बिजली कटौती बनी सिरदर्द

 

 

बार-बार बिजली गोल होने से उपभोक्ता त्रस्त

(ब्यूरो कार्यालय)

सिवनी (साई)। सिवनी के भैरोगंज क्षेत्र में सोमवारी चौक पर लगे ट्रांसफॉर्मर का फेस बार-बार जाने के कारण पोल नंबर बीसी – 06 के कनेक्शन धारियों की बिजली बार-बार गोल हो जाती है। बुधवार को भी दोपहर साढ़े 12 बजे विद्युत प्रवाह अवरूद्ध हो गया। इस मामले की जब शिकायत की गयी तो बताया गया कि लाईट कहीं की बंद नहीं है।

इस पर उपभोक्ता ने कहा कि लाईट बंद है तभी यह शिकायत की जा रही है। इसके बाद शहर कार्यालय में शिकायत दर्ज की गयी और आधे घण्टे बाद बिजली की आपूर्ति पुनः आरंभ हो पायी। क्षेत्र वासियों का कहना है कि इस लाईन को ग्रामीण क्षेत्र से जोड़ दिया गया है जिसके कारण इस तरह की परेशानी बार-बार उपभोक्ताओं को उठाना पड़ रही है।

वहीं सोमवारी चौक के ट्रांसफॉर्मर का भी लोड़ नहीं बढ़ाया जा रहा है। इसके पूर्व भी ट्रांसफॉर्मर में लोड़ बढ़ाने की माँग की जाती रही है। एक ओर तो प्रदेश सरकार विद्युत व्यवस्था सुचारू रखने की बात कर रही है वहीं जिला मुख्यालय में ही विद्युत वितरण कंपनी के अधिकारियों की नाक के नीचे आये दिन बिजली बंद होना सरकार की मंशा पर पानी फेर रहा है।

उपभोक्ताओं ने बताया कि इस संबंध में जब विद्युत वितरण कंपनी के शहर कार्यालय के फोन नंबर 220280 पर फोन लगाया जाता है तो यह नंबर इतना व्यस्त रहता है कि उपभोक्ताओं की शिकायत ही नहीं दर्ज हो पाती है। उपभोक्ताओं ने बताया कि मंगलवार को प्रातः 11 बजे गयी लाईट, दोपहर 01 बजे के बाद आयी।

उपभोक्ताओं ने आगे बताया कि इसके बाद शाम साढ़े 06 बजे बिजली फिर चली गयी। बिजली की आपूर्ति बाधित होने पर उपभोक्ताओं ने कार्यालय में फोन लगाया तो फोन दिन भर व्यस्त रहा और शाम 07.20 पर कार्यालय का फोन उठा तब जाकर परेशान उपभोक्ताओं की शिकायत दर्ज हो पायी।

पीड़ित उपभोक्ताओं का कहना है कि विद्युत कार्यालय के कर्मचारी शिकायत दर्ज करने में कोताही बरत रहे हैं और वे फोन का रिसीवर ही उठाकर रख देते हैं। इस भीषण गर्मी में बार-बार बिजली बंद होने के कारण उपभोक्ताओं को भारी परेशानी से जूझना पड़ रहा है। उपभोक्ताओं ने अधिकारियों से अपेक्षा जतायी है कि भैरोगंज चौक में लगे ट्रांसफॉर्मर की जाँच की जाकर, बार – बार फेस जाने की परेशानी से छुटकारा दिलाया जाये।, अन्यथा उपभोक्ता आंदोलन के लिये बाध्य होंगे जिसकी समस्त जवाबदारी विभागीय अधिकारियों की होगी।

2 thoughts on “अघोषित बिजली कटौती बनी सिरदर्द

  1. Pingback: blazing trader

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *