मयखाने में तब्दील हुआ शांति नगर प्रतीक्षालय

 

 

(संतोष बर्मन)

घंसौर (साई)। स्थानीय शांति नगर बस स्टैण्ड के यात्री प्रतीक्षालय का उपयोग शाम ढलते ही मयखाने के रूप में जमकर हो रहा है, जिससे क्षेत्र में दहशत का वातावरण बना हुआ है।

बताया जाता है कि घंसौर शहर में यात्री बस स्टैण्ड को शांति नगर में बना दिया गया है। शांति नगर में यात्रियों की सुविधा के लिये प्रतीक्षालय का निर्माण भी कराया गया था। इस यात्री प्रतीक्षालय के लिये स्थल का चयन जब किया गया तब उसे यात्रियों की पहुँच को ध्यान में रखकर संभवतः नहीं किया गया है।

बताया जाता है कि मूल बस स्टैण्ड से यात्री प्रतीक्षालय काफी पीछे जाकर बनाया गया है, जिसके चलते यात्री इस प्रतीक्षालय का उपयोग नहीं कर पा रहे हैं। यात्रियों के इस प्रतीक्षालय तक न पहुँच पाने के कारण इसमें आवारा, मनचलों और मयजदों का डेरा रोजाना ही देखा जा सकता है।

प्रत्यक्ष दर्शियों के अनुसार शराबियों के द्वारा शाम ढलने का इंतजार भी नहीं किया जाता है। शाम से ही यहाँ शराबियों की महफिलें गुलज़ार हो जाती हैं। हालात देखकर अनेक यात्री यह भी कहने पर मजबूर हैं कि पुलिस और आबकारी विभाग की निष्क्रियता के चलते यात्री प्रतीक्षालय को अघोषित तौर पर मधुशाला में तब्दील करके रख दिया गया है।

बताया जाता है सुरा के नशे में चूर नशेड़ियों द्वारा बात – बात पर आपा खोते हुए न केवल अपशब्दों का प्रयोग किया जाता है वरन आवेश में आकर शराब की खाली बोतलें भी वहीं फोड़ दी जाती हैं। अनेक लोग आपस में लड़कर पत्थरबाजी भी करते नजर आते हैं। यात्री प्रतीक्षालय के अंदर और बाहर शराब की खाली और फूटी बोतलें, डिस्पोजेबल ग्लास, पानी के खाली पाऊच, नमकीन चखने के पैकेट, सिगरेट बीड़ी के डुट्ठे इस बात की चुगली करते मिल जाते हैं कि यहाँ अनैतिक काम होते हैं।

क्षेत्रवासियों ने बताया कि इसकी शिकायत पुलिस में करने के बाद भी घंसौर पुलिस के द्वारा इस संबंध में किसी तरह की कार्यवाही को अब तक अंजाम नहीं दिया गया है। लोगों की यह भी शिकायत है कि शराबी देर रात में मोहल्ले के घरों में पत्थरबाजी भी करते हैं।

One thought on “मयखाने में तब्दील हुआ शांति नगर प्रतीक्षालय

  1. Pingback: 안전공원

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *