फूफा ने अबोध भतीजी के साथ किया मुँह काला

 

 

बाद में कर दी अबोध की इहलीला समाप्त!

(अखिलेश दुबे)

सिवनी (साई)। अपनी सगी भतीजी के साथ दुष्कर्म करने के बाद उसे मौत के घाट उतारने वाले फूफा को उगली पुलिस ने गिरफ्तार किया है। पुलिस अधीक्षक ललित शाक्यवार के मार्गदर्शन में उगली पुलिस के द्वारा अंधे कत्ल का खुलासा महज 24 घण्टों के अंदर करने में सफलता हासिल की गयी है।

अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक गोपाल खाण्डेल ने समाचार एजेंसी ऑफ इंडिया को बताया कि उगली के पास जेवनारा ग्राम के वाशिंदों ने उगली पुलिस को बताया था कि पहाड़ी टोला में ग्राम की ही पाँच वर्षीय एक बच्ची का शव देखा गया है। उन्होंने बताया कि जिला पुलिस अधीक्षक ललित शाक्यवार के निर्देश पर इस मामले में अनुविभागीय अधिकारी पुलिस केवलारी के.आर. कर्वेती एवं उगली में तैनात उप निरीक्षक हेमंत बावरिया के द्वारा मौके का मुआयना किया गया।

उन्होंने बताया कि घटना की संवेदनशीलता को देखते हुए पुलिस अधीक्षक ललित शाक्यवार और वे भी तत्काल ही मौके पर पहुँच गये। इस मामले में उगली थाने में धारा 376ए, बी, 366ए, 302 भदवि एवं 5, 6 पास्को एक्ट के तहत मामला पंजीबद्ध किया जाकर मृत बालिका के परिजनों से घटना के संबंध में बातचीत की गयी।

अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक गोपाल खाण्डेल ने आगे बताया कि पूछताछ में मृतिका के परिजनों के द्वारा उनके घर लगभग एक सप्ताह से रूके मृतिका के फूफा के संबंध में किसी तरह की जानकारी न दिये जाने पर पुलिस के शक की सुई मृतिका के फूफा पर जाकर टिक गयी। मृतिका के फूफा श्यामलाल (45) पिता कोदू लाल बोपचे निवासी रूमाल, थाना उगली से जब पूछताछ की गयी तो पहले तो उसके द्वारा पुलिस को बरगलाया ही जाता रहा।

उन्होंने बताया कि जब एफएलएल के संयुक्त संचालक साहिब सिंह के द्वारा श्याम लाल से मनोवैज्ञानिक तरीकों का प्रयोग कर पूछताछ की गयी तो उसके द्वारा इस घटना को कारित किया जाना स्वीकार कर लिया गया।

एडीशनल एसपी ने आगे बताया कि पूछताछ के दौरान जो कहानी सामने आयी उसके अनुसार मृतिका का पिता जब रात को गाँव के विवाह समारोह से वापस लौटा तब घर के बाहर एक चारपाई पर श्याम लाल का आठ वर्षीय पुत्र सो रहा था। दूसरी चारपाई पर कोई नहीं था। पिता के द्वारा यह सोचकर दूसरी चारपाई पर विश्राम किया गया कि उसकी पुत्री घर के अंदर सो गयी होगी।

उन्होंने बताया कि अगली सुबह जब मृतिका के पिता पाँच बजे उठकर मजदूरी के लिये जाने के लिये तैयार हो रहे थे तब उनके द्वारा अपनी पुत्री की जानकारी अपनी पत्नि से चाही गयी जिस पर उनकी उनकी पत्नि ने बताया कि वह तो बाहर ही सो रही थी। इसके बाद पुत्री की खोजबीन आरंभ की गयी। यहाँ वहाँ खोजने के बाद उन्हें पुत्री का शव पहाड़ी पर मिला।

अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक ने आगे बताया कि पूछताछ में श्याम लाल ने इस बात को स्वीकार किया कि रात में बारात से जब वह लौटा तो उसने मृतिका को बाहर अकेले सोया देख, उसे नींद में ही उठाया और उसे पहाड़ी पर ले गया। पहाड़ी पर आरोपी के द्वारा दुष्कर्म किये जाने के बाद उसकी हत्या कर दी गयी और फिर शव को वहीं छुपा दिया। उक्त घटना को अंजाम देने के बाद वह घर आकर सो गया।

इस अंधे हत्याकाण्ड के मामले को सुलझाने में पुलिस अधीक्षक ललित शाक्यवार का मार्गदर्शन, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक गोपाल खाण्डेल का निर्देशन एवं एसडीओपी केवलारी के.आर. कर्वेती, थाना प्रभारी केवलारी के.के. अवस्थी, उगली थाना प्रभारी हेमंत बावरिया, उप निरीक्षक श्रोती शर्मा एवं पुलिस बल का सराहनीय सहयोग रहा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *