नियम, पूर्व तैयारी, शतरंज के बोर्ड, सभी मोहरों को समझाया गया

 

(ब्यूरो कार्यालय)

सिवनी (साई)। शह और मात का दिमागी खेल शतरंज का निःशुल्क प्रशिक्षण इन दिनों उत्कृष्ट स्कूल में जारी है। इस प्रशिक्षण में बच्चे निःशुल्क शामिल हो रहे हैं।

खेल विभाग अधिकारी के निर्देशन में 06 से 19 वर्ष तक के बच्चों के लिये शतरंज खेल का प्रशिक्षण दिया जा रहा है। शतरंज के मुख्य प्रशिक्षक प्राचार्य डॉ.आर.पी. बोरकर द्वारा सुबह शाम उपस्थित छात्र – छात्राओं को खेल खेलने के नियम, पूर्व तैयारी, शतरंज के बोर्ड, समस्त मोहरों का महत्व व समस्त मोहरों की चाल, स्कोरशीट भरने का तरीका इत्यादि के बारे में विस्तार से बताया व सिखाया जा रहा है।

प्रशिक्षक ने कहा कि इस शिविर में अन्य आयु वर्ग के छात्र भी उपस्थित होकर शतरंज खेल सीख रहे हैं। खिलाड़ी अत्याधिक रूचि के साथ इस खेल को सीख रहे हैं। शतरंज खिलाड़ियों के अनुसार यहाँ प्रशिक्षण काफी अच्छी तरह से दिया जा रहा है।

बिगनर खिलाड़ी, आसानी से इस प्रशिक्षण को प्राप्त कर खेलना सीख सकता है। अन्य खिलाड़ी अपने खेल को बेहतर बना सकते हैं। शतरंज प्रशिक्षकों द्वारा पालकों व अभिभावकों से कहा गया है कि इस शिविर में अपने – अपने बच्चों को शतरंज खेल में प्रतिनिधित्व करायें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *