विद्युत समस्या से त्रस्त हैं किसान

 

 

अधिकारी नहीं उठाते किसानों के फोन

(ब्यूरो कार्यालय)

सिवनी (साई)। विद्युत वितरण कंपनी सिवनी के ग्रामीण कार्यालय में कनिष्ठ यंत्री की मनमानी से किसान त्रस्त हैं।

कनिष्ठ यंत्री उनकी शिकायत को हल करने में रूचि नहीं दिखा रही हैं। इससे उलट किसानों को धमकी दी जाती है कि विभागीय उच्चाधिकारी मुख्यमंत्री के क्षेत्र के हैं। उनकी कोई भी शिकायत कर दी जाये फिर भी उनका कुछ नहीं बिगड़ने वाला।

आलम यह है कि किसान देर तक कार्यालय में बैठे रहते हैं लेकिन कनिष्ठ यंत्री उन्हें नहीं मिलती। किसान जब लिपिकों से उनके बारे में जानकारी लेते हैं तो उनके द्वारा कहा जाता है कि वे अधिकारियों से मिलने गयीं हैं। यही हाल विद्युत वितरण केन्द्र मुंगवानी, अरी, बादलपार, बण्डोल के भी है जहाँ पर पदस्थ कनिष्ठ यंत्री अपने मुख्यालय में नहीं रहते हैं और समय बेसमय आना जाना करते हैं जिससे किसानों के बिजली संबंधी कार्य प्रभावित हो रहे हैं।

किसानों का आरोप है कि बिजली गुल होने पर कनिष्ठ यंत्रियों को फोन लगाया जाता है तो वे फोन भी नहीं उठाते हैं जिससे किसानों को बिजली नहीं मिल पा रही है। कम वोल्टेज के कारण उनकी कीमती मोटरें जल रही है जिससे उन पर आर्थिक भार भी बढ़ रहा है।

किसानों की विद्युत की समस्या का समय पर निदान नहीं होने के कारण उनमें विद्युत वितरण कंपनी के खिलाफ आक्रोश बढ़ रहा है। विभागीय उच्चाधिकारी विद्युत लाईनों के रखरखाव के लिये मौके पर जाकर निरीक्षण करने का ढोल तो पीट रहे हैं लेकिन किसानों की विद्युत संबंधी समस्याओं का निराकरण नहीं हो पा रहा है। कनिष्ठ यंत्रियों की मनमानी लगातार बढ़ते ही जा रही है और उपभोक्ताओं की समस्याओं को हल करने में वे दिलचस्पी भी नहीं दिखा रहे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *