राशन के लिये परेशान हो रहे ग्रामीण

 

(ब्यूरो कार्यालय)

छुई (साई)। ग्राम छुई में संचालित सहकारी उचित मूल्य की दुकान में राशन वितरण में गोलमाल के आरोप उपभोक्ताओं ने लगाये हैं।

उन्होंने इस मामले को लेकर कलेक्टर से जाँच की माँग करते हुए दोषियों पर कार्यवाही की माँग भी की है। आरोप है कि राशन पर्याप्त नहीं दिया जाता और जो वितरण होता है उसमें भी कटौती की जाती है। गेहूँ, चावल और मिट्टी तेल के लिये परेशान होना पड़ता है। सप्ताह में दो दिन ही दुकान खोली जाती है।

प्रबंधन की मिलीभगत : ग्राम के रघुवीर, शांता बाई, रमेश कुमार और बसंत का आरोप है कि वेयर हाऊस से अनाज तो आता है लेकिन वह पूरा नहीं बांटा जाता है। इसमें से कई उपभोक्ताओं के कार्ड होने के बाद भी वे राशन नहीं लेते हैं, ऐसे में उनके हिस्से का अनाज बेच दिया जाता है।

वहीं मिट्टी तेल भी कालाबाजारियों को ऊँचे दाम पर चोरी छुपे बेच दिया जाता है। इस मामले में समिति का संचालक मण्डल भी कोई सुध नहीं ले रहा। ऐसे में समिति प्रबंधक की भूमिका भी संदेह के दायरे में हैं।

जाँच की माँग : लोगो का कहना है कि राशन दुकान से लेकर समिति के संचालन में मनमानी जारी है। किसानों को लोन देने और वसूली का मामला हो या फिर अन्य काम सभी की जाँच की जानी चाहिये। लंबे समय से डटे प्रबंधन पर अब तक कोई कोई जाँच नहीं की गयी। इस संबंध में उप पंजीयक सहकारिता के अलावा सहकारी बैंक और जिला आपूर्ति विभाग कोई सुध नहीं ले रहा है।