महाकौशल पर भाजपा का कब्जा, छिंदवाड़ा ने कांग्रेस

 

 

 

 

(ब्यूरो कार्यालय)

जबलपुर (साई)। लोकसभा चुनाव 2019 में मध्यप्रदेश के महाकौशल क्षेत्र की 6 सीटों में 5 पर भाजपा ने कब्जा कर लिया है। कांग्रेस को केवल छिंदवाड़ा सीट पर जीत मिली है, जबकि जबलपुर, सीधी, शहडोल, मंडला, बालाघाट में भाजपा का परचम लहराया है।

ज्ञातव्य है कि इन सभी सीटों पर बंपर वोटिंग दर्ज की गई थी। इनमें भाजपा ने जहां अपने गढ़ को मजबूत किया है, वहीं छिंदवाड़ा में अभी भी कमल नाथ का जादू बरकरार है। इनमें सीधी (रीति पाठक वर्सेस अजय सिंह) और जबलपुर (राकेश सिंह वर्सेस विवेक तन्खा) वीआईपी सीटें थी जिन पर भाजपा ने जीत दर्ज की।

जबलपुर : प्रदेश की वीआईपी सीटों में शामिल जबलपुर में भाजपा प्रदेश अध्यक्ष राकेश सिंह ने अपने निकटतम प्रतिद्वंद्वी कांग्रेस के विवेक तन्खा को 04 लाख 54 हजार 744 वोटों से पराजित किया। इन दोनों प्रत्याशियों के बीच 2014 में भी मुकाबला हुआ जिसमें राकेश सिंह जीते थे। इस बार जबलपुर में 69.50 फीसदी मतदान हुआ था जबकि पिछले चुनावों में 58.53 प्रतिशत मतदान हुआ था।

छिंदवाड़ा : छिंदवाड़ा सीट एक बार फिर कांग्रेस के खाते में गई है। यहां मुख्यमंत्री कमल नाथ के बेटे नकुल नाथ कांग्रेस प्रत्याशी ने भाजपा के नत्थन शाह कवरेती को 37 हजार 536 वोटों से हराया। यहां से कमल नाथ लगातार सांसद रहे हैं और उन्होंने अपनी राजनीतिक विरासत को आगे बढ़ाते हुए बेटे नकुल नाथ को मैदान में उतारा। इस बार छिंदवाड़ा में 82.10 फीसदी मतदान दर्ज किया गया है जो पूरे प्रदेश में सबसे ज्यादा है।

सीधी : सीधी में भाजपा की मौजूदा सांसद रीति पाठक कांग्रेस प्रत्याशी व पूर्व नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह को 02 लाख 88 हजार से ज्यादा वोटों से जीतीं। रीति पाठक की ये जीत काफी बड़ी है क्योंकि अजय सिंह प्रदेश के कद्दावर कांग्रेस नेता है। सीधी में इस बार 69.45 प्रतिशत मतदान हुआ है।

शहडोल : शहडोल में भाजपा की हिमाद्री सिंह ने कांग्रेस की प्रमिला सिंह को बड़े अंतर से हराया। हिमाद्री सिंह 04 लाख 03 हजार से ज्यादा वोटों से जीतीं। इस बार शहडोल में बंपर 74.70 प्रतिशत मतदान दर्ज हुआ था जिसका सीधा फायदा भाजपा को मिला।

शहडोल में खास बात ये है कि कांग्रेस और भाजपा दोनों ही पार्टियों ने दल बदलकर आए नेताओं को अपना प्रत्याशी बनाया। भाजपा की उम्मीदवार हिमाद्री यहां से पिछली बार कांग्रेस की उम्मीदवार थी, वहीं कांग्रेस प्रत्याशी प्रमिला सिंह भाजपा छोड़ हाल ही में कांग्रेस में शामिल हुई हैं।

मंडला : मंडला में भाजपा के मौजूदा सांसद फग्गनसिंह कुलस्ते ने कांग्रेस के कमल मरावी से 97 हजार से ज्यादा वोटों से हराया। कुलस्ते क्षेत्र के बड़े नेता हैं। लेकिन यहां आदिवासी गोंगपा (गोंडवाणा गणतंत्र पार्टी) का दबदबा रहता है और कांग्रेस ने गोंगपा के मरावी को अपनी पार्टी में शामिल कर प्रत्याशी बनाया। इस बार मंडला में 77.45 फीसदी मतदान हुआ था।

बालाघाट : बालाघाट में भाजपा के ढाल सिंह बिसेन ने कांग्रेस के मधु सिंह भगत से 02 लाख 40 हजार से ज्यादा वोटों से हराया। भाजपा ने यहां वर्तमान सांसद बोध सिंह भगत का टिकट काटकर डॉ. ढाल सिंह बिसेन को मौका दिया। वहीं भाजपा से बागी होकर निर्दलीय चुनाव लड़ रहे बोध सिंह भगत को 47 हजार 220 वोट मिले। भाजपा ने उन्हें बाहर का रास्ता दिखा दिया है। बालाघाट में 76.96 प्रतिशत मतदान हुआ है। वहीं 2014 के चुनावों में यहां मतदान का प्रतिशत 68.21 रहा था।