दिल्ली में स्कूलों की दीवारें भी देती हैं शिक्षा

 

 

(ब्यूरो कार्यालय)

सिवनी (साई)। जिले के एक प्राचार्य सहित पूरे प्रदेश से 45 शिक्षकों और प्राचार्यों ने पिछले दिनों दिल्ली के स्कूलों का दौरा किया और वहाँ के माहौल को नजदीक से जाना समझा। जिले से गये उत्कृष्ट स्कूल के प्राचार्य आर.पी. बोरकर ने दिल्ली के अपने अनुभव साझे किये।

उन्होंने बताया कि मध्य प्रदेश के मुकाबले दिल्ली के सरकारी स्कूलों की रंगीन दीवारें भी बोल रहीं हैं। दीवारों में लिखे विचार, युक्ति से भी शिक्षा मिल रही है। इंफ्रास्क्ट्रचर ऐसा कि निजि स्कूल भी टिक नहीं पा रहे हैं। स्कूलों में शिक्षकों और स्टॉफ की कोई कमी नहीं है और हर विषय के अलग – अलग शिक्षक नियुक्त हैं। लैब, लाईब्रेरी भी इतनी शानदार है कि देखते ही बनती हैं।

प्रदेश में लागू हो सकता है दिल्ली मॉडल : दरअसल प्रदेश के सरकारी स्कूलों में दिल्ली मॉडल लागू करने की योजना बनायी जा रही है। इसके तहत प्रदेश के सरकारी स्कूलों के प्राचार्यों को दिल्ली के सरकारी स्कूलों का दो दिवसीय एक्सपोजर विजिट कराया गया।

दिल्ली के सरकारी स्कूलों में यह रहा खास : आर.पी. बोरकर ने बताया कि दिल्ली के स्कूलों में सीबीएसई कोर्स पढ़ाया जा रहा है। छात्रों का तनाव खत्म करने के लिये हैप्पीनेस क्लास लगायी जा रही हैं। कक्षाएं लगने और छूटने के पहले दो-दो मिनिट का मौन रखाया जाता है। गर्मियों की छुट्टियों में भी कक्षाएं लगती हैं। छात्रों को रटने की बजाय, करके सीखने पर जोर दिया जाता है।

निजि स्कूल की तरह हैं दिल्ली के स्कूल : दिल्ली में स्कूली बच्चों के बैठने के लिये पर्याप्त फर्नीचर और लैब आदि हैं। हर विषय के शिक्षक नियुक्त हैं और स्टॉफ की कमी नहीं है। स्कूल प्राचार्यों को सभी प्रकार के अधिकार दिये गये हैं। स्कूलों के मेंटेनेंस के स्टेट मैनेजर रखे गये हैं।

जिले से सिर्फ एक शिक्षक थे शामिल : प्रदेश के 45 स्कूल प्राचार्यों की टीम दिल्ली के सरकारी स्कूलों का विजिट करने भेजी गयी थी, जिसमें उत्कृष्ट स्कूल के प्राचार्य आर.पी. बोरकर शामिल थे।

दिल्ली के स्कूलों का दौरा करके काफी कुछ नया देखा. इस जानकारी को शासन के साथ साझा किया जायेगा। प्रदेश के स्कूलों में भी इसी तरह परिवर्तन होने चाहिये.

आर.पी. बोरकर, प्राचार्य,

उत्कृष्ट विद्यालय.

2 thoughts on “दिल्ली में स्कूलों की दीवारें भी देती हैं शिक्षा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *