गरीब रथ में बेडरोल लेने वाले यात्रियों को देनी होगी रसीद

 

 

 

 

(ब्‍यूरो कार्यालय)

जबलपुर (साई)। जबलपुर से चलने वाली 17 ट्रेनों में गरीब रथ ही एक ऐसी ट्रेन है जिसमें यात्रियों को बेडरोल की वैकल्पिक सुविधा दी गई है। इस सुविधा का फायदा यात्रियों को कम अटेंडर को ज्यादा मिल रहा है।

अटेंडर, ट्रेन में तैनात रेल कर्मचारियों के साथ मिलकर यात्रियों से बेडरोल के दाम ज्यादा वसूल रहे हैं। लगातार बढ़ती शिकायत को देखते हुए जबलपुर रेल मंडल के कमर्शियल विभाग ने यात्रियों को बेडरोल के बदले रसीद देना अनिवार्य कर दिया है। इसके अलावा कोच में स्लोगन, पोस्टर और यात्रियों को पीएनआर के साथ भेजे जाने वाले एसएमएस के माध्यम से बेडरोल का सही दाम बताकर उन्हें रसीद लेने कहा जाएगा।

ऐसे वसूलता है गलत तरीके से पैसे

गरीब रथ में जाने वाले यात्रियों को काउंटर पर रिजर्वेशन फार्म में बेडरोल देने की वैकल्पिक सुविधा दी जाती है। उन्हें फार्म पर दिए गए कॉलम में यह बताना होता है कि सफर के दौरान बेडरोल चाहिए या नहीं। जिन यात्रियों को बेडरोल लेना होता है वे काउंटर पर अतिरिक्त 25 रुपए देकर सुविधा ले लेते हैं, लेकिन कई नहीं लेते। जो सुविधा नहीं लेते उन्हें सफर के दौरान नकद 25 रुपए भुगतान कर बेडरोल लेने की सुविधा दी गई है। लेकिन बेडरोल देने के बाद दी गई राशि की रसीद उन्हें नहीं दी जाती। यह राशि टीटीई द्वारा दी जाती है। इसका फायदा उठाकर अटेंडर कई बार यात्री से 50 से 70 रुपए तक वसूल लेते हैं।