कल शपथ लेंगे सीएम कमल नाथ

 

 

 

 

(ब्यूरो कार्यालय)

भोपाल (साई)। बहुमत सिद्ध करने को लेकर कांग्रेस और भाजपा के बीच चल रहे शीतयुद्ध में सरकार फूंक-फूंककर कदम उठा रही है। एक-एक विधायक की अहमियत समझते हुए मुख्यमंत्री कमल नाथ ने विधायक के रूप में अपनी शपथ के लिए विधानसभा के पावस सत्र की प्रतीक्षा करने के बजाय इसके पहले ही शपथ ग्रहण कार्यक्रम आयोजित कर लिया है।

विधान सभा के सूत्रों के अनुसार मुख्यमंत्री कमल नाथ सोमवार को विधानसभा अध्यक्ष नर्मदा प्रसाद प्रजापति के कक्ष में पद और गोपनीयता की शपथ लेंगे। सूत्रों के मुताबिक छिंदवाड़ा विधान सभा उपचुनाव का परिणाम घोषित होने के बाद विधान सभा सचिवालय ने शपथ को लेकर नवनिर्वाचित विधायक कमल नाथ को पत्र भेजकर शपथ लेने के बारे में जानकारी मांगी थी। इसी दौरान लोकसभा चुनाव परिणाम कांग्रेस के पक्ष में नहीं आने से विपक्ष को सरकार को घेरने का मौका मिल गया और बहुमत पर सवाल खड़े किए जाने लगे।

सूत्रों के अनुसार भाजपा विधायक गुमान सिंह डामोर के इस्तीफे से भाजपा विधायक संख्या कम तो हो गई, लेकिन मुख्यमंत्री कमल नाथ की विधायक के तौर पर शपथ नहीं होने से उन्हें वोट का अधिकार नहीं होगा। कहीं पावस सत्र के शुरू में ही सरकार के सामने विपरीत परिस्थितियां पैदा न हो जाएं, इस संभावना पर गौर कर मुख्यमंत्री सचिवालय और अन्य शीर्ष अधिकारियों व कांग्रेस के दिग्गज नेताओं के बीच चर्चा हुई। इसमें यह तय हुआ कि मुख्यमंत्री कमल नाथ की विधायक पद की शपथ के लिए सत्र का इंतजार नहीं किया जाए। सूत्र बताते हैं कि शनिवार को विधान सभा सचिवालय ने कमलनाथ के शपथ कार्यक्रम को अंतिम रूप दे दिया। वे हिंदी में शपथ लेंगे।

दूसरा मौका है जब सीएम के सदन में नहीं होगी शपथ : यह दूसरा मौका है जब किसी मुख्यमंत्री को विधान सभा सत्र से हटकर शपथ दिलाई जा रही है। इसके पूर्व 2006 में भी तत्कालीन मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को 12 मई को तत्कालीन विधानसभा अध्यक्ष ईश्वर दास रोहाणी ने विधान सभा सत्र के पहले विधायक की शपथ दिलाई थी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *