राजधानी फिर शर्मसार

 

 

 

 

10 साल की मासूम से बलात्कार के बाद निर्मम हत्या

(ब्यूरो कार्यालय)

भोपाल (साई)। मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल एक बार फिर शर्मसार हुई है। हालही में राजधानी के मनुआभान टेकरी पर मिली नाबालिग बच्ची के बलात्कार और हत्या के आरोपियों को सजा भी नहीं मिली थी कि, भोपाल के नेहरू नगर IIFM के सामने एक बस्ती में रहने वाली 10 साल की नाबालिग बच्ची की निर्मम हत्या कर दी गयी। परिजन का कहना है कि बच्ची के साथ बलात्कार हुआ और फिर उसकी हत्या कर दी गयी। समय पर पुलिस बच्ची की छानबीन करती तो मेरी बेटी जिंदा होती।

हालांकि, अब तक पुलिस ने बलात्कार होने की आधिकारिक पुष्टी नहीं की है, लेकिन मृतका के परिजन का आरोप है कि, बच्ची की हत्या से पहले उसका बलात्कार किया गया है। बच्ची के परिजन में काफी आक्रोश है, लिहाज़ा हालात को काबू रखने के लिए इलाके में भारी पुलिस बल और एसटीएफ की टीम तैनात कर दी गई है।

यहां जानिए घटनाक्रम ( परिजन से मिली जानकारी)

– बीते शनिवार रात 8 बजे बच्ची गुटखा लेने के लिए घर से निकली थी।

– कई घंटों बाद जब बच्ची घर वापस नहीं लौटी तब परिजन बच्ची को ढूंढने निकले।

– परिजन कमला नगर थाने में करीब 10 बजे बच्ची के लापता होने का मामला दर्ज कराने पहुंचे, लेकिन पुलिस ने उन्हे दुत्कार कर भगा दिया।

– रात करीब 11 बजे पार्षद के कहने पर पीडित परिजन के घर पुलिस पहुंची।

– रविवार की सुबह 5 बजे परिजन को बच्ची की लाश मिली।

– लाश मिलते ही क्षेत्र में हड़कंप मच गया और परिजन सहित रहवासियों ने थाने का घेराव किया।

– लोगों को आक्रोशित देख पुलिस घटना स्थल पर पहुंची।

12 घंटे के बाद हरकत में आयी पुलिस

घटना स्थल पर पहुंची पुलिस मामले की जांच कर रही। पुलिस के मुताबिक मृतका बच्ची नेहरू नगर IIFM के सामने एक बस्ती की रहने वाली है। शनिवार की रात करीब 8 बजे मृतक बच्ची घर से गुटखा लेने के लिए निकली थी। रविवार की सुबह करीब 5 बजे घर के कुछ दूरी पर बच्ची लाश मिली। लोगों ने कमल नगर थाने का घेराव किया। आक्रोशित भीड़ देखकर 12 घंटे के बाद पुलिस हरकत में आयी। घटना स्थल पर मामले को शांत करने के लिए पुलिस तैनात है।

समय पर छानबीन करती पुलिस तो जिंदा होती बच्ची

परिजन का कहना है कि बच्ची घर वापस नहीं आयी तो रात में परिजन कमला नगर थाना मामला दर्ज कराने पहुंचे पर पुलिस ने उन्हे दुत्कार कर भगा दिया। रात करीब 11 बजे पार्षद के कहने पर कमला नगर थाना पुलिस पीडित परिवार के घर पहुंची। यहां पुलिस परिजन से चाय-नाश्ता कराने का फरमान देती रही। परिजनों का कहना है कि समय पर पुलिस मामले की छानबीन करती तो हमारी बच्ची जिंदा होती।

घर से 20 मीटर दूरी पर मिली बच्ची की लाश

सुबह 5 बजे बच्ची की लाश मिलने पर रहवासियों ने कमला नगर थाने के घेराव किया। परिजन का आरोप है कि पुलिस ने मामले को दबाने की कोशिश कर रही है। प्रथम दृष्टया बच्ची से रेप होने का आशंका जतायी जा रही है। हालांकि, अभी अब तक रेप की पुष्टी नहीं हुई। पुलिस ने बच्ची के शव को पोस्टमार्टम के लिए हमीदिया अस्पताल भेज दिया है।

कानून व्यवस्था संभालने पहुंची फोर्स

आक्रोशित भीड़ को देखते हुए कॉलोनी में और कमला नगर थाने के बाहर पुलिस और एसटीएफ बल तैनात किए गए हैं। डीआईजी और एसपी घटना स्थल पर मामले की जांच में जुटे। अगले दिन रविवार को करीब 10 बजे चाय-नाश्ता और गुटखा सिगरेट का फरमान करने वाले कांस्टेबल को सस्पेंड कर दिया गया।

7 पुलिसकर्मी निलंबित

बच्ची के साथ रेप के बाद हत्या मामले में लापरवाही बरतने वाले 6 पुलिसकर्मियों को निलंबित कर दिया गया। जानकारी के मुताबिक एएसआई देव सिंह, दो हवलदार नरेंद्र और जगदीश, चार सिपाही ब्रजेंद्र, रूप सिंह, प्रहलाद और वीरेंद्र सिंह निलंबित किया गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *