गवर्नर त्रिपाठी ने PM मोदी, गृह मंत्री शाह से की मुलाकात, ममता बेचैन

 

 

 

 

(ब्‍यूरो कार्यालय)

नई दिलली (साई)। पश्चिम बंगाल में चुनाव बाद राजनीतिक हिंसा पर जारी सियासी तूफान मंगलवार को दिल्ली तक पहुंच गया। पश्चिम बंगाल के राज्यपाल केशरीनाथ त्रिपाठी ने सोमवार सुबह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृह मंत्री अमित शाह से मुलाकात की।

टीवी रिपोर्ट्स के मुताबिक त्रिपाठी ने गृह मंत्री को राज्य में राजनीतिक हिंसा और मौजूदा हालात पर 48 पेज लंबी रिपोर्ट सौंपी। हालांकि, गृह मंत्री से मुलाकात के बाद त्रिपाठी ने इससे महज शिष्टाचार भेंट करार दिया। गवर्नर त्रिपाठी ने कहा कि उन्होंने बस राज्य की स्थिति के बारे में पीएम और गृह मंत्री को अवगत कराया। इस बीच राज्य की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने बीजेपी पर बंगाल में हिंसा फैलाने और उनकी सरकार को गिराने की साजिश रचने का आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि वह किसी को भी अपनी सरकार को गिराने नहीं देंगी।

इससे पहले पश्चिम बंगाल में कानून और व्यवस्था की बिगड़तीस्थिति को लेकर अडवाइजरी जारी करने के एक दिन बाद गृह मंत्री अमित शाह ने सोमवार को आंतरिक सुरक्षा के मसले पर उच्चस्तरीय बैठक की। बैठक में राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित डोभाल भी मौजूद थे। माना जा रहा है कि बैठक में बंगाल में राजनीतिक हिंसा पर खास चर्चा हुई। बैठक खत्म होने के बाद पश्चिम बंगाल के गवर्नर केशरीनाथ त्रिपाठी ने गृह मंत्री अमित शाह से मुलाकात की।

पीएम और गृह मंत्री से मुलाकात शिष्टाचार भेंट: गवर्नर

शाह से मुलाकात के बाद गवर्नर त्रिपाठी ने पत्रकारों से कहा, ‘मैंने प्रधानमंत्री और गृह मंत्री को पश्चिम बंगाल की स्थिति से अवगत किया। मैं विस्तृत जानकारी नहीं दे सकता।पश्चिम बंगाल में राष्ट्रपति शासन लागू किए जाने की संभावनाओं के बारे में पूछे जाने पर त्रिपाठी ने कहा कि बैठक के दौरान ऐसी कोई बातचीत नहीं हुई। राज्यपाल ने लोकसभा चुनाव के बाद प्रधानमंत्री और गृह मंत्री से पहली बार मुलाकात की।

गवर्नर का सर्वदलीय बैठक का प्रस्ताव

पश्चिम बंगाल के गवर्नर केशरीनाथ त्रिपाठी ने इस बात की पुष्टि की कि वे सूबे में शांति व्यवस्था कायम करने के लिए एक सर्वदलीय बैठक का प्रस्ताव रखने जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि वह सभी को कॉल करेंगे। त्रिपाठी ने कहा कि अगर बैठक में सीएम ममता बनर्जी शामिल होना चाहती हैं तो उनका बहुत स्वागत है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *