06 महीने बाद कब्र से निकाला गया बिशप का शव

 

 

 

 

हादसे में हुई थी मौत

(ब्‍यूरो कार्यालय)

ग्‍वालियर (साई)। बड़ागांव स्थित कब्रिस्तान से सोमवार को शिवपुरी जिले की पोहरी पुलिस टीम ने प्रशासन की मौजूदगी में बिशप थॉमस थेन्नॉट का शव निकलवाया। बॉक्स से शव को बाहर निकाला तो पाया शव तकरीबन सुरक्षित था और डिकम्पोस नहीं हुआ था। शव को पुलिस टीम की निगरानी में जेएएच स्थित पोस्टमार्टम हाउस भिजवाया गया, जहां तीन डॉक्टरों के पैनल ने वीडियोग्राफी में बिशप के शव का परीक्षण किया। प्राथमिक तौर पर पीएम में सिर, सीने और पेट में चोट के निशान मिले हैं, इन चोटों पर पट्टी भी बंधी मिली।

डॉक्टरों ने विसरा, पटटी, कपड़े और ब्लड के सैंपल सुरक्षित रख लिए हैं। पोस्टमार्टम के बाद शव ईसाई समाज के प्रतिनिधियों के सुपुर्द कर दिया गया और पुलिस टीम पोहरी के लिए रवाना हो गई। पोहरी सेशन कोर्ट के निर्देश पर हुई इस प्रोसेस के बाद अब पोस्टमार्टम रिपोर्ट का इंतजार है।

ज्ञात रहे कि 14 दिसंबर 2018 को श्योपुर में एक कार्यक्रम से लौटते समय पोहरी के पास ग्वालियर-चंबल संभाग के बिशप थॉमस थेन्नॉट का एक्सीडेंट होना बताया गया था। एक्सीडेंट के बाद मौके पर ही बिशप की मौत हो गई थी। गाड़ी ड्रायवर जय जॉनसन चला रहा था और लेफ्ट टर्न आते ही गाड़ी पलट गई। बिशप के सिर पर चोट आने के कारण मौत होना बताया था। गाड़ी में दो फादर भी थे। इस मामले में ईसाई समाज की एक महिला ने हाईकोर्ट में याचिका दायर की है कि बिशप थॉमस थेन्नॉट की मौत एक्सीडेंट नहीं मानी जा सकती है, यह एक षडयंत्र के तहत हत्या हो सकती है। इस याचिका पर हाईकोर्ट ने संबंधित जिले के कोर्ट में जाने के निर्देश दिए। इसके बाद शिवपुरी सेशन कोर्ट ने महिला की शिकायत पर एक माह में बिशप की मौत की जांच के आदेश शिवपुरी पुलिस को दिए। इस मामले में शिवपुरी की पोहरी थाना पुलिस जांच कर रही है।

10 बजे आई टीम, पहले थाना फिर कलेक्ट्रेट

शिवपुरी के पोहरी थाने की पुलिस टीम सुबह 10 बजे ग्वालियर पहुंची और यहां पहले मुरार थाने में आमद दी। कोर्ट के आदेश का हवाला दिया और इसके बाद एसडीएम मुरार पुष्पा पुषाम के यहां पहुंचे। यहां से तहसीलदार मुरार नरेश गुप्ता को टीम के साथ जाने अधिकृत किया गया। टीम इसके बाद मुरार थाना पुलिस के साथ कब्रिस्तान पहुंची और यहां पहले से ही जेसीबी मंगवा ली गई थी। तहसीलदार के आते ही शव निकलवाने की कार्रवाई शुरू हुई। करीब दो घंटे में शव सुरक्षित निकाल लिया गया।

पोस्टमार्टमःफैक्ट

-सिर में चोट की बात हादसे के समय भी बताई गई थी और पोस्टमार्टम के समय भी सिर में चोट व चोट वाली जगह पट्टी बंधी मिली।

-पेट और छाती में भी चोट है, जहां दोनों जगह पट्टी बंधी मिली।

-बिशप के पेट में खाना मिला है जो घटना से करीब तीन घंटे पहले उन्होंने खाया था।

तीन डॉक्टरों ने किया पीएम

जेएएच के डॉ. चंद्रशेखर वाघमारे, डॉ. मक्खन माहौर, डॉ. निखिल अग्रवाल तीन डॉक्टरों के पैनल ने शव का पोस्टमार्टम में शामिल हैं। पीएम की वीडियोग्राफी हुई है। अब डॉक्टर्स अपनी फायनल रिपोर्ट पुलिस को सौंपेंगे।

इसका मुंह खुलवाओ, पहले क्यों नहीं की शिकायत?

मौके पर जब जेसीबी बिशप का शव निकालना शुरू कर रही थी, तब वहां मौजूद समाज की कुछ महिलाओं ने शिकायतकर्ता महिला को देख कहा कि जब एक्सीडेंट हुआ था, तब इस महिला ने शिकायत क्यों नहीं की। शिकायतकर्ता महिला मुंह को चुनरी से ढंके हुए थी, कुछ महिलाओं ने उसका मुंह खुलवाने के लिए भी कहा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *