सराय बना दिया है जिला अस्पताल को

 

 

चौबीसों घण्टे अस्पताल में घूमते रहते हैं लोग!

(अय्यूब कुरैशी)

सिवनी (साई)। प्रियदर्शनी इंदिरा गाँधी जिला चिकित्सालय, मध्य प्रदेश तो क्या देश का पहला ऐसा अस्पताल होगा जहाँ चौबीसों घण्टे लोगों की आवाजाही बनी रहती है। अस्पताल का हाल देखकर यही प्रतीत होता है कि अस्पताल प्रशासन के द्वारा इसे सराय बना दिया गया है।

जिला अस्पताल का कॉरीडोर हो या अन्य स्थान, रात के दो बजे भी आपको लोग विचरण करते दिख जायेंगे। ये लोग कौन हैं और अस्पताल में क्यों घूम रहे हैं, इस बारे में पूछताछ करने की फुर्सत किसी को नहीं है। अस्पताल में लाखों रूपयों की लागत से लगाये गये सीसीटीवी कैमरे भी शोभा की सुपारी ही बने हुए हैं।

मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी कार्यालय के उच्च पदस्थ सूत्रों ने समाचार एजेंसी ऑफ इंडिया को बताया कि जिला अस्पताल में सुरक्षा और सफाई के काम को निजि कंपनी को दिया गया है। निजि कंपनी के कर्मचारी भी अस्पताल के मुख्य द्वार से गायब रहते हैं। अस्पताल का मुख्य द्वार चौबीसों घण्टे खुला रहता है।

सूत्रों का कहना है कि अस्पताल में अपना उपचार कराने आये मरीज़ को आराम की आवश्यकता होती है। इसके चलते हर अस्पताल में मिलने का समय (विजिटिंग ऑवर्स) निर्धारित हैं। कमोबेश एक घण्टा सुबह और एक घण्टा शाम को अस्पताल में भर्त्ती मरीज़ों से मिलने के लिये निर्धारित रहता है।

सूत्रों का कहना है कि पिछले महीने जब अस्पताल के छज्जों पर गंदगी देखकर जिलाधिकारी प्रवीण सिंह भड़के थे तब अस्पताल प्रशासन ने उन्हें बरगलाते हुए यह कह दिया था कि अस्पताल के छज्जों पर मरीज़ों के परिजन खाना और अन्य चीजें फेंकते हैं इसलिये यह गंदगी होती है।

सूत्रों की मानें तो जिलाधिकारी को यह भी बता दिया गया था कि ये छज्जे बहुत पुराने हो गये हैं और इन छज्जों से बारिश में पानी रिसकर दीवारों को गीला करता है। इन छज्जों पर पानी रोकने के लिये आने वाले कैमिकल का इस्तेमाल करने की बजाये इन्हें तोड़कर फायबर या अन्य तरह की शीट लगाये जाने का प्रस्ताव दे दिया गया और जो काम सस्ते में हो सकता था, उस काम के लिये कई गुना पैसा खर्च करवाया जा रहा है।

सूत्रों का कहना था कि अस्पताल में गंदगी पर जब जिलाधिकारी ने अपनी नाराजगी जतायी थी तब सफाई ठेकेदार के द्वारा इस बात पर आपत्ति की गयी थी कि अगर चौबीसों घण्टे अस्पताल में लोगों की आवाजाही रहेगी तो अस्पताल को साफ रखना मुश्किल होगा। कुल मिलाकर अस्पताल प्रशासन अपनी गलती को छुपाने के लिये वरिष्ठ अधिकारियों को बरगला रहा है और अनावश्यक निर्माण के जरिये जनता के धन का अपव्यय किया जा रहा है।

सूत्रों ने यह भी कहा कि अस्पताल प्रशासन अगर (जैसा पूर्व निर्धारित है और होता भी आया है) सुबह एक घण्टा और शाम एक घण्टा विजिटिंग ऑवर्स के नियम का पालन सख्ती से करवा दे तो अस्पताल भी साफ सुथरा रहेगा और छज्जों पर भी गंदगी नहीं होगी। यक्ष प्रश्न यही है कि अस्पताल में लगे सीसीटीवी कैमरों में क्या यह नहीं देखा जा सकता है कि चौबीसों घण्टे लोगों की आमद रफत अस्पताल में बनी रहती है।

नागरिकों ने संवेदनशील जिला कलेक्टर प्रवीण सिंह से जनापेक्षा व्यक्त की है कि इस तरह छज्जे तोड़कर शीट लगाये जाने की बजाय अस्पताल प्रशासन को इसके लिये पाबंद किया जाये कि सुबह और शाम एक एक घण्टा ही मिलने के समय का पालन कड़ाई से किया जाये।

लोगों का यह भी कहना है कि अस्पताल में मिलने के लिये पर्ची सिस्टम की योजना भी बनने की बात चल रही है। पर्ची सिस्टम जब बनेगा तब बनेगा पर अस्पताल के वार्ड में लोगों से मिलने के लिये दिन में दो घण्टे का समय तो आज से ही निर्धारित किया जा सकता है!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *