समय पर लगाएं diabetes का पता

 

 

 

 

 

 

जानें कैसे मददगार हो सकती है स्मार्ट मशीन

कह सकते हैं कि डायबिटीज महामारी का रूप धारण करता जा रहा है। विश्व स्वास्थ्य संगठन की एक रिपोर्ट के मुताबिक, भारत में 7.2 करोड़ लोग डायबिटीज से पीड़ित हैं और यह तादाद 2025 तक दोगुना हो जाने की आशंका है। ऐसे में जरूरी है कि डायबिटीज की आशंका का समय पूर्व पता चल जाए। इसके लिए एक स्मार्ट मशीन तैयार की गई है। जानकारी देता आलेख

इंटरनेशनल डायबिटीज फेडरेशन के अनुसार, हर साल दुनिया में करीब 70 लाख लोग डायबिटीज की चपेट में आ रहे हैं। स्वास्थ्य देखभाल क्षेत्र के विशेषज्ञों का कहना है कि सुस्त जीवनशैली (जिसमें शारीरिक श्रम न के बराबर होता है), अनियमित कामकाज  और तनाव इस बीमारी के प्रमुख कारण हैं। कई मामलों में डायबिटीज का पारिवारिक इतिहास भी वजह बनता है। खानपान की खराब आदतें और व्यायाम की कमी भी डायबिटीज के अहम कारणों में शुमार हैं।

गंभीरता को समझें

डायबिटीज एक जटिल स्वास्थ्य समस्या है, जो पूरे शरीर को प्रभावित करता है। आमतौर पर उम्र के छठे और सातवें दशक में पहुंच चुके लोगों को डायबिटीज का खतरा ज्यादा रहता है। हालांकि आजकल डायबिटीज के मामले बच्चों और युवाओं में भी काफी देखने को मिल रहे हैं। डायबिटीज से पीड़ित लोग शरीर में रक्त शर्करा (ब्लड ग्लूकोज या ब्लड शुगर) के सही स्तर को बनाए रख पाने में असमर्थ होते हैं। हम जो कुछ भी खाते हैं, उससे शर्करा का निर्माण होता है। यह शरीर की ऊर्जा का मुख्य स्रोत होता है। इंसुलिन एक हार्मोन है, जिसका निर्माण अग्नाशय (पैंक्रियाज) द्वारा हाता है। यह भोजन की शर्करा को ऊर्जा में रूपांतरित करता है, जो दैनिक कार्यों के लिए हमारे शरीर को चाहिए होती है। जब हमारा शरीर इंसुलिन का पर्याप्त मात्रा में उत्पादन नहीं कर पाता, तो रक्त में मौजूद शर्करा ऊर्जा में रूपांतरित नहीं हो पाती और शरीर की कोशिकाओं तक नहीं पहुंच पाती। इसकी बजाय वह रक्त में ही रह जाती है, जिससे कई तरह की स्वास्थ्य समस्याएं पैदा होती हैं। 

सावधान करने वाली मशीन

रक्त में शर्करा का उच्च स्तर गंभीर समस्याएं पैदा कर सकता है। अनियंत्रित ब्लड शुगर रक्त वाहिकाओं को गंभीर क्षति पहुंचा सकता है और घातक बीमारियों का कारण बन सकता है। डायबिटीज के नियंत्रण और प्रबंधन के लिए सबसे अहम है कि इसका पता समस्या शुरू होने से पहले या फिर शुरुआती चरण में ही लग जाए। ताइवान के ब्रांड प्रोटेक्टलाइफने एक सुरक्षित और आसान नैदानिक जांच प्रणाली (क्लिनिकल टेस्टिंग सिस्टम) विकसित की है, जो डायबिटीज का पता सटीकता के साथ शुरुआती चरण में ही लगा सकती है। इस ब्रांड को इनोवेशन और गुणवत्ता के लिए इस साल का ताइवान एक्सीलेंस अवॉर्डभी मिला है। प्रोटेक्टलाइफ स्पेक्ट्रम पर आधारित मल्टी-एनालाइट डिटेक्शन प्लेटफॉर्म है। यह इस प्रकार से डिजाइन किया गया है कि एक छोटे-से सैंपल से 9 बायोमार्कर की एक साथ त्वरित और आसान निगरानी करने में सक्षम है। यह मल्टी-टेस्ट रीएजेंट डिस्क का मेल है, जो डायबिटीज पैनल, रेनल पैनल, लिवर पैनल, कार्डियोवेस्कुलर पैनल, कॉ्प्रिरहेंसिव मेटाबोलिज्म पैनल और एल्बुमिन/क्रिएटिनिन रेशियो (एसीआर) यूरिन टेस्ट सहित 10 मार्कर की जांच एक ही समय में कर सकता है।

थोड़े रक्त की जरूरत

इससे जांच के लिए बहुत कम मात्रा में खून की जरूरत होती है। इसमें खून के नमूने का तेजी से विश्लेषण करने की क्षमता है। इसका इस्तेमाल बहुत आसान है। यह क्लिनिक, केयर सेंटर, नर्सिंग होम, एंबुलेंस, कम्यूनिटी सेंटर, स्कूल, कॉरपोरेट हेल्थ सेंटर, दूर-दराज के इलाकों, मेडिकल और क्लिनिकल लैब तथा अन्य एप्लिकेशन के लिए उपयुक्त है।

(साई फीचर्स)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *