अपनों से न काट दे सपनों-सी ये दुनिया

 

 

 

 

इसके खतरे के बारे में जानें

वक्त जितनी तेजी से बदल रहा है, संचार माध्यम भी उसी रफ्तार से अत्याधुनिक होकर हमारी जिंदगी में दखल दे रहे हंै। ज्ञान और सूचना के लिए जाना जाने वाला सोशल मीडिया अब हमारी जिंदगी का सबसे अहम हिस्सा बन चुका है। इसके फायदे चाहे जो भी हों, इसकी लत सेहत को कई तरह से नुकसान भी पहुंचा रही है। बता रही हैं दर्शनी प्रिय

फेसबुक, ट्विटर और इंस्टाग्राम जैसे अति सक्रिय प्लेटफार्म पल-पल बदलती जिंदगी को अपडेट करने के सशक्त पैमाने बनकर उभरे हैं। इस बदलती आभासी दुनिया में आप तभी सफल  माने जाएंगे, जब लाइक्स और करंट स्टेटस के मानदंड पर खड़े उतरेंगे। जाहिर है मॉडर्न कहलाना है, तो इन जगहों पर अपडेट रहना होगा। लगातार चलते रहने वाले लाइक्स और अपडेट्स  के खेल ने  दो कदम आगे बढ़ाकर हमे आभासी दुनिया का एकांतिक खिलाड़ी बना दिया है, जहां यह सेहत को मानसिक और शारीरिक दोनों स्तरों पर नुकसान पहुंचा रहा है।

बन रहा परेशानी का सबब

सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म से हमारी जिंदगी बेशक कुछ आसान हुई है, लेकिन अब ये संचार माध्यम फायदे से कहीं ज्यादा नुकसान पहुंचाने लगे हैं। कमेंट और लाइक्स का खेल सोशल मीडिया के आदि हो चुके लोगों के जीवन में परेशानी का सबब बन चुका है। साल 2012 में हावर्ड  यूनिवर्सिटी के एक शोध में यह बात सामने आई कि सोशल मीडिया का असर कोकीन और अन्य नशीली चीजों जैसा ही होता है। दोनों ही चीजों से हमारे मस्तिष्क का समान हिस्सा सक्रिय होता है। डेना बॉएड की नई किताब में बच्चों द्वारा सोशल मीडिया पर बिताए जाने वाले वक्त को जटिलताओं भरा बताया गया है। लाइव्स  ऑफ टीननाम की इस किताब में किशोरों और तकनीक के साथ उनके संबंधों से जुड़े कई प्रचलित मिथकों को ध्वस्त किया गया है।

क्या है सोशल मीडिया

सोशल मीडिया इंटरनेट के जरिये एक ऐसी आभासी दुनिया पेश करता है, जिसमें हम सूचनाओं का तेजी से आदान-प्रदान करते हैं और उसे असल दुनिया समझ बैठते हैं। वास्तव में लोग उस आभासी दुनिया में इस कदर खो जाते हैं कि वे असल दुनिया से कट जाते हैं। इस तरह वे अलगाव, तनाव और अवसाद  को न्योता देते हैं। फेसबुक और व्हाट्सएप जैसे लोकप्रिय  माध्यम सामाजिक बिखराव के बड़े  कारण के रूप में सामने आए हैं। भले ही इन्होंने हमें देश-दुनिया की सूचनाओं से जोड़े रखा, पर अवसाद, अकेलेपन और तनाव की ओर भी धकेला है। सूचना के माध्यमों का सीमित उपयोग ज्ञान और समझ को बढ़ाने के लिहाज से मुफीद है, लेकिन इसका असीमित उपयोग हानिकारक है।

हो सकते हैं बड़े नुकसान

सोशल डिसॉर्डर की आशंका

सोशल मीडिया की आभासी दुनिया में हर समय लाखों लोग सक्रिय रहते हैं। इसमें लोग एक-दूसरे से रोजाना ऑनलाइन मिलते हैं और अपनी बातें साझा करते हैं। आखिरकार वे दोस्त बन जाते हैं, पर इस चक्कर में वे अपने असली दोस्तों से लगातार दूर होते जाते हैं। ऐसे ही समय में सोशल डिसॉर्डर की समस्या दस्तक देती है।

दिमाग पर पड़ सकता है बुरा असर

इंटरनेट का ज्यादा से ज्यादा इस्तेमाल इनसान के दिमाग को इस तरह परिवर्तित कर सकता है, जिससे उसका ध्यान, स्मृति और सामाजिक दृष्टिकोण प्रभावित हो सकते हैं। वर्ल्ड साइकाइट्रीपत्रिका में प्रकाशित एक अनुसंधान में यह बात सामने आई है। इंटरनेट से मिलने वाले संदेश हमें अपना ध्यान लगातार उस ओर लगाए रखने के लिए प्रेरित करते हैं। इससे किसी कार्य पर ध्यान बनाए रखने की क्षमता कम होने लगती है।

(साई फीचर्स)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *