इस शिवलिंग पर हर 12 साल बाद गिरती है आसमानी बिजली

 

 

 

 

उसके बाद होता है ये चमत्कार

हिंदू धर्म में कई भगवान हैं जिन्हें पूजा जाता है। लेकिन हिमाचल प्रदेश ( Himachal Pradesh ) का एक ऐसा मंदिर ( Temple ) है, जिसकी गुत्थी आज तक नहीं सुलझ पाई है। आप सोच रहे होंगे कि भला इस मंदिर में ऐसा क्या होता है तो आपको बता दें कि इस शिव मंदिर में हर 12 साल में आकाशीय बिजली गिरती है। जी हां चौंकिए मत क्योंकि ऐसा सच में होता है।

क्या है मामला

दरअसल, हिमाचल प्रदेश के कुल्लू ( Kullu ) से 18 किलोमीटर की दूरी पर मथान नामक स्थान पर भोलेनाथ का मंदिर स्थित है। ये एक रहस्यमयी शिव मंदिर ( shiv mandir ) है। जहां हर 12 साल में आकाशीय बिजली गिरती है। हालांकि, इस दौरान मंदिर को किसी भी तरह का कोई नुकसान नहीं होता। पौराणिक कथा के अनुसार, यहां की विशालकाय घाटी सांप के रुप में है, जिसका वध भगवान शिव ( Lord Shiva ) के द्वारा किया गया था। वहीं बताया जाता है कि हर 12 साल में भगवान इंद्र पहले भोलेनाथ की आज्ञा लेते हैं और फिर यहां बिजली गिराते हैं। इस दौरान बिजली के गिरने से मंदिर का शिवलिंग खंडित हो जाता है। इसके बाद मंदिर के पूजारी खंडित शिवलिंग पर मरहम के तौर पर मक्खन लगाते हैं ताकि महादेव को दर्द से राहत मिल सके।

लोग कहते हैं मक्खन महादेव

पुजारी शिवलिंग ( Shivling ) पर मक्खन लगाते हैं। ऐसे में यहां के स्थानीय लोग शिवलिंग को मक्खन महादेव भी कहते हैं। पौराणिक कथा के अनुसार, इस मंदिर में कुलान्त नाम का एक दैत्य रहा करता था। एक बार उसने सारे जीवों को मारने के लिए व्यास नदी का पानी रोक दिया था। यह देख भगवान शिव क्रोधित हो गए। इसके बाद महादेव ने एक माया रची। भगवान शिव दैत्य के पास गए और उसे कहा कि उसकी पूंछ में आग लगी है। ये बात सुनते ही दैत्य ने जैसे ही पीछे मूड़कर देखा तो शिवजी ने त्रिशुल से कुलान्त के सिर पर वार किया और वो वहीं मर गया। कहा जाता है दैत्य का विशालकाय शरीर पहाड़ में तब्दील हो गया, जिसे आज हम कुल्लू के पहाड़ कहते हैं। इसके बाद शिव ने इंद्र भगवान से वहां हर 12 साल में बिजली गिराने को कहा, जिससे यहां जन-धन की हानी न हो।

(साई फीचर्स)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *