रूठ गये बदरा, पसीने से तरबदर शहरवासी

 

 

किसान कल्याण विभाग से नाराज़ दिख रहे किसान

(ब्यूरो कार्यालय)

सिवनी (साई)। जुलाई का पहला पखवाड़ा बीतने को है। लेकिन शहर को पानी से तरबतर कर देने वाली बारिश का अब भी इंतजार है। बारिश के अभी तक जोर नहीं मारने के कारण लोग हैरान हैं।

जानकारों का कहना है कि हैरान करने वाली बात ये है इस बार गर्मी में तापमान ज्यादा न होने के बाद भी गर्मी का अहसास ज्यादा हुआ वहीं, पिछले दिनों हुई बारिश के बाद भी न तो मौसम में ठण्डक का अहसास आया है और न ही 13 जुलाई की स्थिति में जलाशयों में जलभराव की मात्रा अपेक्षाकृत अधिक है।

इस सप्ताह के शुरुआत में एक दिन बारिश के बाद बूंदाबांदी थमते ही गर्मी और उमस से परेशान लोगों को शनिवार को हवा के बदले रुख ने कुछ राहत दी। कई दिन बाद शनिवार को उत्तर – पश्चिमी हवा चली। औसतन चार किमी प्रति घण्टे की गति से चली इन हवाओं ने कुछ ठण्डक का अहसास कराया।

इससे उछल रहा पारा भी काबू में रहा। दिन के समय उसम का अहसास तो हुआ। लेकिन उत्तर की ठण्डी हवा के मिलने से लोगों को राहत रही। मौसम विभाग के सूत्रों ने समाचार एजेंसी ऑफ इंडिया को बताया कि आने वाले दिनों में झमाझम की उम्मीद कम ही है।

किसान परेशान : किसानों का कहना है कि इस बार किसान कल्याण विभाग के द्वारा बारिश के पूर्वानुमान को लेकर किसी तरह की सूचना जारी न किये जाने के कारण किसानों ने अंदाज से ही बोवनी के काम को अंजाम दिया है। अब पानी के इंतजार में किसानों को इस बात की चिंता सताने लगी है कि कहीं पानी नहीं गिरा तो उनकी फसल खराब न हो जाये।

किसानों का कहना है कि संपन्न किसानों के द्वारा तो अपने खेतों में बारिश के न होने पर अपने – अपने साधनों से सिंचाई कर ली जायेगी पर जो किसान बारिश पर ही निर्भर रहते हैं उनके लिये बारिश न होने से बीज के खराब होने की आशंकाएं बलवती होती दिख रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *