वरिष्ठ चिकित्सकों में जमकर हुई जूतम पैज़ार!

 

 

डीएचओ डॉ.धर्डे, डॉ.परतेती भिड़े आपस में, लगा मज़मा

(अय्यूब कुरैशी)

सिवनी (साई)। मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी (सीएमएचओ) डॉ.के.सी. मेश्राम के नेत्तृत्व में जिले में स्वास्थ्य अमला किस मुस्तैदी के साथ काम कर रहा है इसकी एक बानगी लखनादौन में सीएमएचओ की उपस्थिति में वरिष्ठ चिकित्सक डॉ.जे.पी.एस. परतेती और जिला स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण अधिकारी डॉ.मधू सूदन धर्डे के बीच हुई जूतम पैज़ार के जरिये मिल रही है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार जिलाधिकारी प्रवीण सिंह के निर्देश पर सीएमएचओ डॉ.के.सी. मेश्राम और जिला स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण अधिकारी डॉ.एम.एस. धर्डे बुधवार को सुबह लखनादौन पहुँचे थे। वे लखनादौन अस्पताल में मंगलवार और बुधवार की मध्य रात्रि सर्पदंश से पीड़ितों की मौत के मामले की जाँच के लिये सिविल अस्पताल लखनादौन पहुँचे थे।

सिविल अस्पताल के सूत्रों ने समाचार एजेंसी ऑफ इंडिया को बताया कि बीती रात हुए बवाल के बाद अनुविभागीय अधिकारी राजस्व अंकुर मेश्राम सुबह साढ़े आठ बजे ही अस्पताल पहुँच गये थे। इसके बाद सीएमएचओ और डीएचओ अस्पताल पहुँचे। तीनों की उपस्थिति में रात में मरीज़ का उपचार न हो पाने के कारण हुई मौत की जाँच के लिये वे पहुँचे थे।

सूत्रों ने बताया कि रात में कॉल ड्यूटी पर डॉ.वीथी जैन थीं। रात में सर्पदंश के मरीज़ आने के बाद उन्हें कॉल भेजे जाने के बाद भी वे अस्पताल नहीं पहुँचीं, जिसके चलते सर्पदंश से पीड़ित मरीज़ों की जान चली गयी।

सूत्रों ने बताया कि सुबह जब जाँच दल के सामने डॉ.वीथी जैन उपस्थित हुईं तो वे बेहद तमतमायी हुईं थीं। उनके द्वारा यह कहा गया कि उनकी गाड़ी में पेट्रोल नहीं था और सरकारी स्तर पर कोई वाहन उपलब्ध नहीं होने पर वे रात में अस्पताल नहीं पहुँच पायीं। इस संबंध में सीएमएचओ डॉ.मेश्राम का कहना था कि व्यवस्था के अनुसार चिकित्सक को अपने वाहन से ही कॉल मिलने पर अस्पताल जाना होता है।

बहरहाल, सूत्रों ने बताया कि इस दौरान डॉ.वीथी जैन और जाँच दल के अधिकारियों के बीच जमकर तकरार भी हुई। जाँच दल के एक सदस्य के द्वारा डॉ.वीथी जैन को नौकरी छोड़कर घर बैठने की नसीहत भी दे डाली गयी। इसके जवाब में डॉ.जैन के द्वारा भी नौकरी छोड़ने की बात तक कह दी गयी।

बहरहाल, सूत्रों के अनुसार इसके बाद जाँच दल उठकर डॉ.जे.पी.एस. परतेती के आवास पर गया। डॉ.परतेती को उठने के बाद जब वे बाहर आये तब इसके बाद डीएचओ डॉ.धर्डे और डॉ.परतेती के बीच कुछ कहासुनी हुई और डॉ.धर्डे के द्वारा डॉ.परतेती को एक थप्पड़ रसीद कर दिया गया।

सूत्रों ने बताया कि थप्पड़ पड़ते ही डॉ.परतेती ने उन्हें पकड़ने का प्रयास किया तो वे वहीं पास पड़ी बैंच से टकरा गये और उनके हाथ से खून निकलने लगा। इस दौरान वहाँ खड़े लोगों के द्वारा बीच बचाव भी किया गया। यह पूरा वाकया सीएमएचओ डॉ.के.सी. मेश्राम की उपस्थिति में घटित हुआ और कुछ लोगों के द्वारा इसका वीडियो भी बनाया गया बताया जाता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *