हरियाणा तमतमाया जल वितरण विवाद पर

 

 

 

 

(ब्यूरो कार्यालय)

नई दिल्‍ली (साई)। हरियाणा सरकार ने दावा किया है दिल्ली उच्च न्यायालय के पास यह अधिकार नहीं है कि वह यमुना नदी के चल बंटवारे को लेकर दिल्ली के साथ चल रहे विवाद पर कोई फैसला करे। हरियाणा ने कहा कि दोनों राज्यों के बीच जल बंटवारे को लेकर कोई भी फैसला करने के लिए अपर रिवर यमुना बोर्डउचित निकाय है।

हरियाणा ने उच्च न्यायालय से क्षेत्राधिकार के मुद्दे पर प्राथमिकताके आधार पर फैसला लेने का अनुरोध किया है। हरियाणा ने यह भी कहा कि उच्च न्यायालय इस मामले में आगे बढ़ने से पहले क्षेत्राधिकार के मुद्दे पर फैसला करने के अपने कर्तव्य का पालन करने में नाकाम रहा है।

हरियाणा ने दिल्ली उच्च न्यायालय मुख्य न्यायाधीश न्यायमूर्ति डी एन पटेल और न्यामूर्ति सी हरि शंकर की पीठ के समक्ष दायर अपने जवाब में अदालत द्वारा नियुक्त समिति के निष्कर्षों पर भी ऐतराज जताया। समिति का गठन इस बात के निरीक्षण के लिए किया गया था कि दिल्ली के लिए पानी ले जाने वाली नहरों में मेड़ें बनी हुई हैं अथवा नहीं।

हरियाणा सरकार ने अदालत से समिति की रिपोर्ट को खारिज करने का आग्रह किया है जिसमें कहा गया है कि यमुना नदी के ताल में बड़े पैमाने पर खनन चल रहा है और हरियाणा सरकार ने गतिविधि के संबंध में कोई जानकारी नहीं दी है। समिति ने यह भी कहा है कि खनन गतिविधि न सिर्फ जल प्रवाह में बाधा डाल रही है, बल्कि पर्यावरण प्रदूषण का कारण भी बन रही है।

हरियाणा का कहना है कि रिपोर्ट सिर्फ एक बार निरीक्षण कर दाखिल की गई है और इसमें उससे सलाह मशविरा नहीं किया गया। उच्च न्यायालय ने दिल्ली जल बोर्ड (डीजेबी) के आवेदन पर समिति का गठन किया था। बोर्ड ने आवेदन में दावा किया गया है कि दिल्ली को जलापूर्ति करने वाली नहरों में मेड़ें बनाई गई हैं और इससे राष्ट्रीय राजधानी की जल आवश्यकताएं प्रभावित हो रही हैं।

170 thoughts on “हरियाणा तमतमाया जल वितरण विवाद पर

  1. If Japan is neck of the woods of excellent district to corrupt cialis online forum regional anesthesia’s can provides, in primary, you are in use accustomed to to be a Diagnosis: you are high to other treatment the discontinuation to take demanding as it most. best online casino real money real money online casinos usa

  2. Pingback: cialis prix
  3. PDE5 is an enzyme plant in the first place in the fluent muscular tissue
    of the principal sum cavernosum that by selection cleaves and degrades
    cGMP to 5′-GMP. PDE5 inhibitors are alike in bodily structure
    to cGMP; they competitively tie up to PDE5 and stamp down cGMP
    hydrolysis, frankincense enhancing the effects of NO.
    This step-up in cGMP in the placid muscular tissue cells is responsible for for prolonging an hard-on. http://lm360.us/

  4. Pingback: viagra canada
  5. Pingback: best viagra sites
  6. Pingback: paypal viagra

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *