खूंखार हो रहे आवारा श्वान!

 

 

सूअरों और अन्य जानवरों पर कर रहे हमला, बना रहे अपना ग्रास

(सादिक खान)

सिवनी (साई)। बारिश का मौसम आते ही शहर भर में घूमने वाले आवारा श्वानों के द्वारा अब जिस तरह का व्यवहार किया जा रहा है उसे देखकर लोग डरे सहमे हैं। भारतीय जनता पार्टी शासित नगर पालिका परिषद के द्वारा आवारा जानवरों के संबंध में महज कागजी घोषणाएं ही की जा रही हैं।

ज्ञातव्य है कि नगर पालिका प्रशासन के द्वारा समय – समय पर पशु पालकों को चेतावनी देकर अपने कर्त्तव्यों की इतिश्री कर ली जा रही है। नगर पालिका के पास आवारा कुत्ते पकड़ने के लिये एक विशेष किस्म की ट्रॉली होने के बाद भी यह ट्रॉली फिल्टर प्लांट में खड़ी धूल खा रही है।

भाजपा शासित नगर पालिका के द्वारा पिछले साल एक – दो दिन आवारा कुत्तों को पकड़ने का अभियान चलाया गया था। इसके बाद इस साल भी एक-दो दिन यह अभियान चलाया गया। नगर पालिका के द्वारा वाहवाही लूटने की गरज से इसके फोटो भी सोशल मीडिया पर डाले गये।

शहर का शायद ही कोई ऐसा इलाका छूटा हो जहाँ आवारा कुत्तों की टोली घूमती न दिख रही हो। बारिश का समय वैसे भी इन श्वानों का प्रजनन काल होता है। इस समय आवारा श्वान टोलियों में घूमते नज़र आते हैं। जो सबसे ताकतवर श्वान होता है वह इनका नेत्तृत्व करता दिखायी देता है।

सिवनी शहर के पॉश इलाके बारापत्थर में आवारा कुत्तों की धमक से लोग परेशान हैं। देर रात आने वाली श्वानों की कर्कश आवाजें, इनका आपस में संघर्ष लोगों को डरा देता है। यहाँ यह उल्लेखनीय होगा कि भाजपा के विधायक दिनेश राय, सांसद डॉ.ढाल सिंह बिसेन, पूर्व सांसद एवं पूर्व विधायक श्रीमति नीता पटेरिया, पूर्व विधायक नरेश दिवाकर, केवलारी विधायक राकेश पाल सिंह, जिला काँग्रेस कमेटी के अध्यक्ष राज कुमार खुराना और यहाँ तक कि नगर पालिका अध्यक्ष श्रीमति आरती अशोक शुक्ला का निवास भी बारापत्थर क्षेत्र में होने के बाद पालिका इन आवारा कुत्तों के बारे में पूरी तरह मौन ही दिखायी दे रही है।

लोगों ने समाचार एजेंसी ऑफ इंडिया को बताया कि शहर भर के आवारा कुत्ते पूरी तरह हिंसक हो चुके हैं। इसके पहले बरघाट नाके के पास एक दुधमुंहे बच्चे को श्वान उठाकर ले गये थे, बाद में उस बच्चे ने दम तोड़ दिया था। इस घटना के बाद भी भाजपा शासित नगर पालिका ने सबक नहीं लिया।