इधर दिया कांग्रेस का साथ, उधर कांग्रेस में ही विरोध शुरू

 

 

 

 

(ब्यूरो कार्यालय)

भोपाल (साई)। मैहर से बीजेपी विधायक नारायण त्रिपाठी ( bjp mla narayan tripathi ) ने मध्यप्रदेश विधानसभा में वोटिंग के दौरान अपनी पार्टी को गच्चा दिया है। साथ ही बीजेपी के कई नेताओं पर कई आरोप भी लगाए हैं। लेकिन जिस क्षेत्र से नारायण त्रिपाठी विधायक हैं, वहां के कांग्रेसी ने इन्हें स्वीकार करने को तैयार नहीं है। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार सतना के कांग्रेस नेता भोपाल आकर पार्टी नेतृत्व के सामने नारायण त्रिपाठी का विरोध करेंगे।

नारायण त्रिपाठी का दल बदल का इतिहास रहा है। सियासी फायदे के लिए वो दल बदलते रहे हैं। बीजेपी में आने से पहले भी वो कांग्रेस में थे। अब फिर से क्रॉस वोटिंग के बाद उन्होंने घर वापसी की बात कही है। नारायण त्रिपाठी के इस कदम से बीजेपी की काफी किरकिरी हुई है। लेकिन अब नारायण की भी मुश्किलें बढ़ने लगी हैं। कांग्रेस में उनके आने की आहट के साथ ही कांग्रेसी ही उनका विरोध करने लगे हैं।

कई दे सकते हैं इस्तीफा

बताया जा रहा है कि सतना से शुक्रवार रात सैकड़ों की संख्या में कांग्रेस कार्यकर्ता भोपाल कूच करेंगे। दरअसल, ये सतना में कांग्रेस के नेता नारायण त्रिपाठी के आने से बगावत पर उतारू हैं। भोपाल पहुंच सभी नेता सीएम कमलनाथ के सामने अपनी बात रखेंगे। वहीं, कहा जा रहा है कि अगर कार्यकर्ताओं की बातें नहीं सुनी जाती है तो सामूहिक रूप से दर्जनों नेता इस्तीफा दे सकते हैं।

दलबदल का रहा है इतिहास

वहीं, नारायण त्रिपाठी का दलबदल का पुराना इतिहास रहा है। वे सपा से कांग्रेस में आए थे। फिर कांग्रेस से बीजेपी में चले गए और अब फिर बीजेपी से कांग्रेस में जाने की बात कही है। ऐसे में कांग्रेस कार्यकर्ताओं को लगता है कि जो नेता सियासी फायदे के लिए लगातार पाला बदलते रहे हैं, उनका क्या भरोसा कि वो कांग्रेस में बने रहेंगे। सतना में मुख्य रूप से श्रीकांत चतुर्वेदी और श्रीनिवास नारायण त्रिपाठी का विरोध कर रहे हैं।

लगाया ये आरोप

क्रॉस वोटिंग के बीजेपी विधायक नारायण त्रिपाठी ने पार्टी पर कई आरोप लगाए हैं। उन्होंने कहा है कि बीजेपी में मेरा सम्मान नहीं था। नारायण ने पूर्व सीएम शिवराज सिंह पर हमला करते हुए कहा कि उन्होंने मेरे क्षेत्र में कई योजनाओं की घोषणा की जो पूरी नहीं की गई। मैने जब गुहार लगाई तो किसी ने ध्यान नहीं दिया। नारायण ने कहा कि ये वो दल है जहां तिलक लगाकर बुलाया जाता है बाद में में बकरे की तरह हलाल कर दिया जाता है।

स्थानीय सांसद से भी है विवाद

मैहर विधायक नारायण त्रिपाठी का बीजेपी के सतना सांसद गणेश सिंह से नहीं बनता है। दोनों ने कई बार सार्वजनिक मंच से एक-दूसरे के खिलाफ टीका-टिप्पणी की है। लेकिन दोनों के बीच चल रहे विवाद को सुलझाने के लिए पार्टी ने कभी कोई कदम नहीं उठाया है। हालांकि खबरें यह भी हैं कि शिवराज सिंह चौहान और राकेश से बागी विधायकों से बात कर सकते हैं।