प्रदेश को फिर मिला बाघ प्रदेश का दर्जा : कमल नाथ

 

 

 

 

(ब्यूरो कार्यालय)

भोपाल (साई)। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा सोमवार को जारी अखिल भारतीय बाघ संख्या अनुमान रिपोर्ट 2018 में मध्य प्रदेश ने 526 बाघों के साथ देश में पहला स्थान प्राप्त कर एक बार फिर बाघ प्रदेश का दर्जा हासिल कर लिया है। मध्य प्रदेश ने कर्नाटक से यह दर्जा वापस छीना है।

पिछली बार 2014 में देश में बाघों की गणना हुई थी, जिसके मुताबिक मध्य प्रदेश 308 बाघों के साथ तीसरे नंबर पर था, जबकि कर्नाटक 406 और उत्तराखंड 340 बाघों की संख्या के साथ देश में क्रमशः पहले और दूसरे पायदान पर थे। इस प्रकार मध्य प्रदेश ने दो पायदान की छलांग लगाकर बाघ प्रदेश का दर्जा फिर से हासिल किया है।

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमल नाथ ने सोमवार को केंद्र सरकार द्वारा जारी बाघ गणना आकलन रिपोर्ट में मध्य प्रदेश द्वारा बाघ प्रदेश का दर्जा पुनः हासिल होने पर प्रसन्नता जाहिर करते हुए सभी प्रदेशवासियों को बधाई दी है। मध्य प्रदेश वन विभाग द्वारा अंतरराष्ट्रीय बाघ दिवस पर आज यहां आयोजित कार्यक्रम को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा, आज मुझे बड़ी खुशी है कि बाघों की संख्या में मध्य प्रदेश देश का नंबर वन ही नहीं, मध्य प्रदेश बाघों की संख्या में विश्व का नंबर वन है।

उन्होंने कहा कि यह कहना कि बाघों की संख्या में देश में मध्य प्रदेश नंबर वन है, तो यह मध्य प्रदेश के साथ अन्याय होगा। हमें तो कहना पड़ेगा की विश्व में आज मध्य प्रदेश नंबर वन है। कमल नाथ ने कहा कि बाघ मध्य प्रदेश की पहचान हैं। यह भी साबित हो गया है कि मध्य प्रदेश के वन, बाघों और अन्य वन-जीवों के लिए सबसे सुरक्षित रहवास है।

उन्होंने नागरिकों से अपील की है कि वे पर्यावरण संरक्षण के लिए हमेशा तत्पर रहे। उन्होंने सभी राष्ट्रीय उद्यानों और अभयारण्यों के प्रबंधन से जुड़े अधिकारियों, कर्मचारियों को विशेष रूप से बधाई दी है। उन्होंने बाघ संरक्षण से जुड़ी सभी संस्थाओं, व्यक्तियों, विशेषज्ञों को भी बधाई दी, जिन्होंने बाघों के संरक्षण के प्रति समय-समय पर अपनी चिंता जताई और सरकार का ध्यान आकर्षित किया।

कमल नाथ ने कहा कि पन्ना टाइगर रिज़र्व ने बाघों के संरक्षण में अनूठा कार्य किया है, जो वन्य-जीव प्रबंधन और संरक्षण की मिसाल बन गया। उन्होंने वन विभाग के सभी अधिकारियों और कर्मचारियों को विशेष रूप से बधाई दी है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा आज अंतरराष्ट्रीय बाघ दिवस के मौके पर बाघों की संख्या पर रिपोर्ट जारी की गई है। रिपोर्ट में देश में बाघों की कुल संख्या 2967 पहुंच गई है। इसमें मध्य प्रदेश 526 बाघों के साथ देश में पहले स्थान पर है।