बोगस कंपनियों के ठिकानों पर GST का सर्वे

 

 

 

 

एक हजार जगहों पर चल रही जांच

(ब्यूरो कार्यालय)

भोपाल (साई)। जीएसटी ( GST survey ) लागू होने के बाद वाणिज्यिक कर विभाग यानी एसजीएसटी ने सोमवार से प्रदेशव्यापी जांच अभियान शुरू किया है। प्रदेश में एक हजार से अधिक ठिकानों पर और भोपाल में 19 ठिकानों पर एक साथ विभागीय अमले ने जांच शुरू की है। प्रारंभिक जांच में सामने आया कि डीलर्स ने दुकानों की बजाय घरों के पते पर रजिस्ट्रेशन कराया है और करोड़ों का कारोबार कर रहे हैं। इतना ही नहीं वे लगातार फर्जी बिल भी जारी कर रहे थे।

दरअसल, जीएसटी लागू होने और उसके बाद विभागीय जांच का काम धीमा होने से राज्य में कई बोगस फर्मों का उदय हो गया। इनमें से कई फर्म्स कारोबार नहीं कर रही थी और ना ही रिटर्न फाइल कर रही थी। लेकिन इनवायस जारी कर रही थीं। विभाग ने जब इनका डाटा खंगाला और मैदानी अमले से गुप्त जांच करवाई तो पता चला कि ये फर्म दुकानों से नहीं बल्कि घरों से संचालित हो रही हैं। बाकायदा बिल भी जारी हो रहे थे। ऐसी बोगस कंपनियों से दूसरे राज्य से मिलने वाला कम्पनशेसन मध्यप्रदेश को नहीं मिल रहा था यानी रेवेन्यू का सीधी-सीधा नुकसान हो रहा था।

विभाग के कमिश्नर डीपी आहूजा के संज्ञान में आने के बाद ऐसी बोगस फर्मो की जांच शुरू की गई है। प्रारंभिक रूप से प्रदेश में करीब 1 हजार बोगस फर्म सामने आई है। सभी के घरों पर अलग-अलग टीमें जांच कर रही हैं। भोपाल में 19 फर्मों की जांच की जा रही है। भोपाल के एंटी इवेजन ब्यूरो के कार्यक्षेत्र के अंतर्गत भोपाल, रायसेन, बैतूल, हरदा, होशंगाबाद, विदिशा, सीहोर जिले के अंतर्गत आने वाले शहरों में विभाग की टीम मध्यप्रदेश माल एवं सेवा कर की धारा 67-1 के तहत जांच में जुटी हुई है। जांच में विभाग के इंस्पेटक्टर एवं कराधान सहायक लगे हुये हैं।

वाणिज्यिक कर विभाग के एंटी इवेजन ब्यूरो के संयुक्त आयुक्त एस.के. श्रीवास्तव का इस मामले में कहना है कि बोगस कंपनी बनाकर बिल जारी करने वालों के खिलाफ सोमवार से प्रदेशव्यापी जांच शुरू हुई है। जांच में दोषी पाये जाने पर पंजीयन निरस्त कर उनसे पंजीयन तारीख से जारी हुए बिलों के आधार पर टैक्स वसूला जाएगा।