सांसद कोटे के अलावा 41 को और मिलेगा केवी में प्रवेश

 

 

डॉ.बिसेन ने एचआरडी मिनिस्टर से की थी गुजारिश

(ब्यूरो कार्यालय)

सिवनी (साई)। बालाघाट एवं सिवनी जिले के केन्द्रीय विद्यालय में प्रवेश हेतु सांसद कोटे के अतिरिक्त 41 छात्र – छात्राओं को प्रवेश का अवसर प्राप्त हुआ है।

भारत सरकार के मानव संसाधन विकास मंत्री डॉ.रमेश पोखरियाल निशंक द्वारा सांसद डॉ.ढाल सिंह बिसेन के विशेष आग्रह पर यह विशेष प्रावधान किया गया है। प्रवेश हेतु चयनित छात्र – छात्राओं की सूची केन्द्रीय विद्यालयों को प्राप्त हो चुकी है।

उल्लेखनीय है कि डॉ.ढाल सिंह बिसेन के सांसद बनने के बाद दोनों जिलों से अनेक अभिभावकों द्वारा अपने बच्चों के केन्द्रीय विद्यालय में प्रवेश हेतु उन्हें आवेदन दिये गये थे। मानव संसाधन मंत्रालय द्वारा सांसद के लिये केवल 10 विद्यार्थियों के प्रवेश का कोटा निर्धारित है।

डॉ.ढाल सिंह बिसेन द्वारा लोकसभा सत्र के दौरान केन्द्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री डॉ.रमेश पोखरियाल निशंक को न केवल पत्र लिखा गया, बल्कि व्यक्तिगत तौर पर भेंट करके केन्द्रीय विद्यालय में अतिरिक्त कक्षा खोलने एवं दोनों जिलों में एक-एक केन्द्रीय विद्यालय और खोलने की माँग रखी गयी।

इस भेंट के दौरान डॉ.बिसेन ने मंत्री श्री निशंक को प्रवेश हेतु आवेदनों की संख्या के बारे में बताया और उनसे आग्रह किया कि उनका संसदीय क्षेत्र काफी पिछड़ा है, क्षेत्र के अधिकांश लोग आर्थिक संपन्न नहीं हैं। इस कारण वे सीबीएसई कोर्स के लिये प्राईवेट स्कूलों का खर्च वहन नहीं कर सकते। उन्होंने ऐसे जरूरत मंदों को केन्द्रीय विद्यालय में प्रवेश देने का आग्रह किया। सांसद डॉ.बिसेन के इस विशेष आग्रह पर मानव संसाधन विकास मंत्री डॉ.रमेश पोखरियाल निशंक ने विशेष प्रावधान करते हुए सांसद कोटे के अतिरिक्त दोनों जिलों के 41 छात्र – छात्राओं को केन्द्रीय विद्यालय में प्रवेश की स्वीकृति प्रदान कर दी है। डॉ.बिसेन ने कहा है कि जिस संख्या में उनके पास आवेदन आये थे उतनी संख्या में केन्द्रीय विद्यालय में प्रवेश दिलाना असंभव रहा है, जिसके लिये उन्हें खेद है।

शेष आवेदनों पर अगले सत्र में चिंता करने की बात डॉ.बिसेन द्वारा कही गयी है। डॉ.बिसेन ने यह भी भरोसा दिलाया है कि वे केन्द्रीय विद्यालय में अतिरिक्त कक्षाएं चालू करवाने एवं अपने संसदीय क्षेत्र के दोनों जिलों में एक-एक केन्द्रीय विद्यालय और खोले जाने के लिये प्रयास करते रहेंगे।