तेजाब उड़ेलने वाले आरोपी को दबोचा पुलिस ने

 

 

जादू टोना निकला इस घटना की तह में!

(फैयाज खान)

छपारा (साई)। छपारा थाना क्षेत्र में दो बुजुर्गों की पिटाई के बाद उन पर तेजाब उड़ेलने वाले आरोपी प्रमोद (45) पिता भगवान सिंह बैस को पुलिस ने धर दबोचा है। बीते सोमवार को हुई घटना में एक बुजुर्ग की उपचार के दौरान मौत हो गयी थी।

घटना के संबंध में पुलिस सूत्रों ने बताया था कि बण्डोल थाना के अंतर्गत आने वाले ग्राम चंदौरीकला निवासी प्रमोद (45) पिता भगवान सिंह बैस, बीते सोमवार को दिन में लगभग 11 बजे, ग्राम सागर निवासी मालीराम (80) पिता गंभीर चौहान और सालिकराम (70) पिता दीपचंद को अपने वाहन में बैठाकर समीप ही स्थित एक अन्य गाँव में घुमाने के लिये ले गया था।

उसी दौरान मालीराम और सालिकराम को लेकर प्रमोद ठाकुर रामगढ़ के जंगल की ओर चला गया जहाँ प्रमोद ने उन दोनों से शराब पीने के लिये कहा। इसके साथ ही प्रमोद ठाकुर ने मालीराम और सालिकराम की पिटाई डण्डे से करना आरंभ कर दी। मालीराम और सालिकराम ने प्रमोद से पूछा भी कि उनकी पिटाई क्यों की जा रही है लेकिन प्रमोद के द्वारा उनके सवाल का कोई जवाब नहीं दिया जा रहा था।

सूत्रों ने बताया कि मारपीट की इस घटना को अंजाम देते वक्त प्रमोद ठाकुर सिर्फ पिटाई करने से ही नहीं माना बल्कि उसने अपने पास रखे तेजाब को भी मालीराम के पैर पर उड़ेल दिया। इस तेजाब के प्रभाव से मालीराम गंभीर रूप से झुलस गया। इस तेजाब के कुछ छींटे सालिकराम पर भी पड़े थे।

सूत्रों की मानें तो इस घटना की अजीबो गरीब बात यह रही कि पिटाई करने के बाद आरोपी प्रमोद ने दोनों पीड़ितों को वापस उनके घर ले जाकर छोड़ दिया। मालीराम के पास पाँच हजार रूपये होने की बात भी कही जा रही है, जो घटना के उपरांत उनके पास नहीं मिले थे।

अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक गोपाल खाण्डेल ने समाचार एजेंसी ऑफ इंडिया को बताया कि मामले की गंभीरता को देखते हुए जिला पुलिस अधीक्षक कुमार प्रतीक के द्वारा लखनादौन एसडीओपी अरविंद श्रीवास्तव, थाना प्रभारी छपारा नीलेश परतेती, थाना प्रभारी बण्डोल रमेश गायधने के नेत्तृत्व में अलग – अलग दलों का गठन किया जाकर आरोपी की पतासाजी आरंभ करवायी गयी।

उन्होंने बताया कि दल के गठन के महज 24 घण्टे के अंदर ही आरोपी प्रमोद सिंह बैस को पुलिस ने धर दबोचा गया। आरोपी से पूछताछ पर आरोपी ने बताया कि मृतक मालीराम गुनिया (तांत्रिक) था और वह गड़ा धन ढूंढकर निकालने का काम करता था। उनके बीच रकम के बंटवारे को लेकर विवाद हुआ, जिसके बाद आरोपी ने मालीराम को जान से मारने की नीयत से उस पर तेजाब से हमला कर दिया। आरोपी को गिरफ्तार कर माननीय न्यायालय में पेश किया गया।

इस पूरे मामले के आरोपी को 24 घण्टे के भीतर गिरफ्तार करने में छपारा के नवागत थाना प्रभारी नीलेश परतेती, बण्डोल थाना प्रभारी रमेश गायधने, प्रधान आरक्षक संजय ठाकुर, रविंद्र प्रताप सिंह, प्रमोद मालवी, जयेंद्र बघेल, राजेंद्र कटरे, जयसिंह बघेल (छपारा थाना), प्रधान आरक्षक मुकेश उपाध्याय, विनोद बघेल, नारायण सिंह डेहरिया (बण्डोल थाना) की महती भूमिका रही।