अब आजम ने लगाए पुलिस पर आरोप

 

 

 

 

जौहर यूनिवर्सिटी में चोरी की किताबें: आजम ने आरोपों को किया खारिज

(ब्‍यूरो कार्यालय)

नई दिल्‍ली (साई)। हाल ही में यूपी सरकार द्वारा भूमाफिया की लिस्ट में शामिल किए गए एसपी नेता आजम खान ने अपनी यूनिवर्सिटी में चोरी की किताबें रखने के आरोपों को खारिज किया है।

इसके उलट उन्होंने पुलिस और प्रशासन पर आरोप लगाया है कि जौहर यूनिवर्सिटी में छापे के दौरान ट्रकों में लाद-लादकर बेशकीमती किताबों और पांडुलिपियों को जबरन ले जाया गया है। इतना ही नहीं, उन्होंने पुलिस पर छापेमारी के दौरान यूनिवर्सिटी में रखे जकात के पैसों को भी ले जाने का आरोप लगाया है। बता दें कि आजम खान जौहर यूनिवर्सिटी के चांसलर हैं और उनके बेटे अब्दुल्ला आजम उसके सीईओ हैं।

आजम खान ने यूपी और केंद्र की सरकारों पर जौहर यूनिवर्सिटी को मिटाने की कोशिश का आरोप लगाया। उन्होंने कहा, ‘यूनिवर्सिटी को मिटाने वाली दो सरकारे हैं, एक कमजोर आदमी 2 सरकारों से लड़ रहा है। लूट लिया सब। कटर से ताले तोड़कर जो जकात का पैसा रखा हुआ था, जो गरीब बच्चों को दिया जाता है, उसे भी ले गए….मेरे कपड़े भी ले गए।आजम ने यहां तक कहा कि यूनिवर्सिटी से जिन किताबों और बेशकीमती पांडुलिपियों को ले जाया गया है, उसे पुलिस वाले बेचेंगे तो उन्हें नौकरी की जरूरत नहीं पड़ेगी।

मेरे साथ और मेरे बाद भी अन्याय के खिलाफ लड़ेगा बेटा: आजम

आजम ने कहा कि उनके बेटे अब्दुल्ला आजम को 24 घंटे में 2 बार हिरासत में लिया जा चुका है। उन्होंने कहा, ‘कोई बात नहीं, बस कोई ऐसा काम न करे पुलिस जो एक बाप को ज्यादा दुख दे दे।एसपी नेता ने कहा कि उनका बेटा बहादुर है। वह अन्याय के खिलाफ उनके साथ मिलकर लड़ रहा है और उनके बाद भी लड़ेगा। इससे पहले आजम खान ने पुलिस पर छापेमारी के दौरान यूनिवर्सिटी में कार्यरत महिलाओं से बदसलूकी का भी आरोप लगाया था।

जौहर यूनिवर्सिटी में मिलीं चोरी की किताबें: पुलिस

बता दें कि मंगलवार को रामपुर में जौहर यूनिवर्सिटी पर पुलिस-प्रशासन ने छापा मारा था। यूनिवर्सिटी की लाइब्रेरी में कई ऐसी किताबें भी मिली हैं जिनके बारे में पुलिस का दावा है कि वे रामपुर के ऐतिहासिक मदरसा आलिया से चोरी की गई थीं। एसपी अजयपाल के मुताबिक मदरसे से चोरी की गईं किताबें जौहर यूनिवर्सिटी की लाइब्रेरी से मिली थीं। किताबों पर आलिया मदरसे की मुहर भी है। इसके अलावा आजम पर यह भी आरोप लग रहा है कि उन्होंने रामपुर क्लब की शेर की प्रतिमा और बिलियर्ड टेबल को चुराकर जौहर यूनिवर्सिटी में लगवाया है।

किताबें बरामद होने के बाद दूसरे बुधवार को जांच में सरकारी काम में बाधा डालने के आरोप में उनके बेटे आजम अब्दुल्ला को हिरासत में ले लिया गया था। हालांकि बाद में उन्हें रिहा कर दिया गया। गुरुवार को अब्दुल्ला आजम अपने समर्थकों के साथ सड़क पर उतर गए, जिसके बाद पुलिस ने धारा 144 के उल्लंघन के आरोप में अब्दुल्ला और उनके कई समर्थकों को हिरासत में ले लिया।