गाँधी चौक में बढ़ रहा यातायात का दबाव

 

 

 

बैंकों के कारण आवागमन होता है प्रभावित

(ब्यूरो कार्यालय)

सिवनी (साई)। इन दिनों वाहनों की संख्या में लगातार इजाफा हो रहा है। भारी वाहनों का नगर में प्रवेश होने के कारण अक्सर आये दिन यातायात प्रभावित होता है और दुर्घटना की संभावना बनी रहती है लेकिन इस ओर न तो जिला प्रशासन का ध्यान है और न ही यातायात विभाग का ध्यान जा रहा है।

गौरतलब है कि गाँधी चौक शुक्रवारी बाजार से मिशन स्कूल के मध्य अक्सर यातायात का दबाव बना रहता है और इसी मार्ग पर हाथ ठेले में व्यवसाय करने वाले, अपने लोग थोड़े से लाभ के लिये अतिक्रमण फैलाते हैं जिससे अक्सर ही दुर्घटना होती हैं लेकिन लोगों की परेशानी सुनने वाला कोई नज़र नहीं आ रहा है।

ज्ञातव्य है कि लगभग 200 वर्ष पुराना जैन मंदिर एवं राम मंदिर जो कि सिवनी की प्राचीन पुरातत्व की धरोहर है यहाँ से वाहन गुजरने पर प्रतिबद्ध हैं लेकिन इसी स्थल पर महाराष्ट्र बैंक के सामने पार्किंग के अभाव में यातायात का दबाव तीन दिशाओं से बना रहता है।

देखा जाता है कि शुक्रवारी एवं मिशन स्कूल की ओर से आने जाने वाले लोग जब महाराष्ट्र बैंक के सामने आते हैं इसी दौरान नीलांजना चौक से यहाँ आने वाले मार्ग के वाहन चालक भी यहाँ के दबाव से परेशान होते है। अनेंकों बार यहाँ पर नीलांजना चौक से भारी वाहन पर अंकुश लगाने के लिये पुलिस प्रशासन ने रोक लगाने का प्रयास किया गया लेकिन कुछ असामाजिक तत्वों ने यहाँ पर उस अवरोध को हटा दिया और आज भी यहाँ से भारी वाहन आते जाते है जिससे यातायात जमकर प्रभावित होता है।

उल्लेखनीय है कि इसी मार्ग से प्रतिदिन सुबह से लेकर शाम तक हजारों की तादाद में बच्चे स्कूल एवं ट्यूशन जाना – आना करते हैं। इसके साथ ही अनेक विभागों के अधिकारी भी इसी मार्ग से गुजरते हैं अतः क्षेत्र के लोगों ने शुक्रवारी बाजार से बड़े मिशन स्कूल के मध्य बढ़ रहे अतिक्रमण को हटाने की माँग की है।

देखा गया है कि गाँधी चौक में व्यवसाय करने वाले लोगों के कारण यहाँ पर वाहन खड़ा करना भी मुश्किल होता है। यहीं पर यूनियन बैंक के अनेक उपभोक्ता आते हैं लेकिन पार्किंग न होने के कारण वे रास्ते में ही वाहनों को खड़ा करते हैं जिससे परेशानी की स्थिति निर्मित होती रहती है। इस विकराल समस्या के समाधान की दिशा में यातायात प्रशासन से कार्यवाही की माँग की गयी है।

One thought on “गाँधी चौक में बढ़ रहा यातायात का दबाव

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *