इस मंदिर में हैं 108 दिव्य शिवलिंग

 

 

(ब्यूरो कार्यालय)

सिवनी (साई)। शहर में कटंगी नाका के समीप बायपास पर स्थित प्रचीन बोरदई टेकरी पर स्थापित महाकालेश्वर मंदिर में 108 उत्तर मुखी दिव्य शिवलिंग विराजमान हैं। श्रावण मास में हजारों भक्तगण सर्व मनोकामना प्राप्ति के लिये इस मंदिर में दर्शन और रुद्राभिषेक करने के लिये आते हैं।

महाकालेश्वर मंदिर के मुख्य पुजारी पण्डित राघवेंद्र शास्त्री ने जानकारी देते हुए बताया कि पूरे प्रदेश में सिर्फ इसी मंदिर में 108 उत्तर मुखी दिव्य शिवलिंग विराजमान हैं। यहाँ पर एक प्राचीन शिव मंदिर स्थापित है। इसके अलावा लगभग 10 वर्ष पूर्व मानसरोवर फोटो स्टूडियो के संचालक स्वर्गीय ठाकुर प्रसाद सोनी ने अपनी पत्नि की स्मृति में नया शिव मंदिर बनवाया था।

उन्होंने बताया कि इस मंदिर के गर्भ गृह में 05 फीट ऊँचे मुख्य शिवलिंग के अलावा 108 उत्तर मुखी दिव्य शिवलिंग भी स्थापित हं। पण्डित राघवेंद्र शास्त्री ने बताया कि महाकालेश्वर मंदिर में श्रावण मास पर रुद्राभिषेक करने से मनोवांछित फल की प्राप्ति होती है। इसके अलावा इस मंदिर में काल सर्प दोष शांति के साथ समस्त रोग, बाधा, विवाह तथा संतान प्राप्ति में आ रहीं बाधाओं के निवारण हेतु विशेष पूजन अर्चन के साथ ही साथ रुद्राभिषेक किया जाता है।

बढ़ रहा शिवलिंग का आकार : सिवनी नगर के कटंगी बायपास बोरदई टेकरी में स्थापित महाकालेश्वर मंदिर के मुख्य पुजारी पण्डित राघवेंद्र शास्त्री ने बताया कि नये मंदिर के सामने प्राचीन मंदिर में स्थापित शिवलिंग का आकार पिछले कई वर्षों से लगातार बढ़ रहा है। इस प्राचीन मंदिर में हजारों लोग इस दिव्य शिवलिंग के पूजन अर्चन और दर्शन करने आते हैं। विशेष तौर पर श्रावण मास के प्रति सोमवार को इस मंदिर में ब्रह्म मुहूर्त से लेकर देर रात तक रुद्राभिषेक और भजन कीर्तन कार्यक्रम जारी रहता है।