विद्युत के खंबों की ऊँचाई को बढ़ाया जाये

 

इस स्तंभ के माध्यम से मैं विद्युत विभाग से अपील करना चाहता हूँ कि उसके द्वारा सिवनी में बेतरतीब और खतरनाक रूप ले चुके बिजली के तारों की ओर गंभीरता से ध्यान दिया जाकर इन्हें नये सिरे से व्यवस्थित करने की दिशा में शीघ्र कदम उठाये जायें।

उल्लेखनीय होगा कि सिवनी में सड़क निर्माता ठेकेदारों की मनमानी के चलते अनेकों सड़कों की ऊँचाई अजीबो गरीब तरीके से बढ़ा दी गयी है। इसके चलते कई लोगों को अपने भवन जो सड़क से नीचे हो गये थे उन्हें भी उनका पुर्ननिर्माण करवाना पड़ा है। सड़कें और भवनों के ऊपर उठ जाने के कारण शहरी क्षेत्र में लगे बिजली के खंबे और उनसे होकर गुजरे तार काफी नीचे प्रतीत होने लगे हैं।

विद्युत के तारों का अत्यंत नीचे आ जाना कई गंभीर दुर्घटनाओं को आमंत्रण देता हुआ प्रतीत होता है। विद्युत विभाग यदि स्वयं अवलोकन करे तो वह पायेगा कि बिजली के खंबे यकायक ही काफी छोटे हो गये हैं। यह अपने आप नहीं हुआ है बल्कि नव निर्मित सड़कों की ऊँचाई बढ़ जाने के कारण ये तार काफी नीचे झूलते हुए प्रतीत होने लगे हैं।

दुर्घटनाओं को लेकर यदि विद्युत विभाग को ज्यादा लेना-देना नहीं भी है तो उसे कम से कम इस बात का ध्यान रखना चाहिये कि यदि खंबों पर लगे बिजली के तार यदि काफी नीचे से होकर गुजरेंगे तो इससे विद्युत चोरी की संभावनाएं भी कई गुना बढ़ गयी हैं, और संभव है कि कुछ लोगों के द्वारा इसका फायदा उठाते हुए विद्युत की चोरी भी की जा रही हो। इन परिस्थितियों में कुल मिलाकर नुकसान विद्युत विभाग का ही हो रहा है इसलिये उसे अविलंब इस ओर ध्यान देना चाहिये।

नीचे झूलते तारों के कारण सड़क से गुजरने वाले मालवाहक वाहनों को भी काफी दिक्कत होती है। हालांकि अधिकांश वाहन चालक इस बात का ध्यान रखते हैं कि विद्युत के तार उनके वाहन या वाहन में लदे सामान से न टकरा पायें फिर भी कुछ मामलों में लापरवाह चालकों के कारण इन तारों को क्षति पहुँचती है जिसके कारण संबंधित क्षेत्र का विद्युत प्रवाह काफी देर तक अवरूद्ध हो जाता है। ऐसे और भी कारण हैं जिनकी समीक्षा करते हुए विद्युत विभाग को इस दिशा में कदम उठाये जाने की आवश्यकता है।

हारून रशीद