ये हैं मानसून में होने वाली पांच आम बीमारियां

मानसून आना बेहद सुखद अहसास होता है और ये काफी जरूरी भी है, लेकिन इस मौसम में संक्रमण के चलते कई बीमारियों का खतरा पैदा हो जाता है। आइये जाने इस मौसम में होने वाली कुछ खास बीमारियों और उनसे बचाव के तरीके।
मलेरिया
बरसात के मौसम में होने वाले सभी रोगों में सबसे आम मलेरिया है। मलेरिया को साधारण नहीं समझना चाहिए ये दुनिया की सबसे जानलेवा बीमारियों में से एक है। मलोरिया मादा एनाफलीज मच्छर के काटने से होने वाला एक संक्रामक रोग है। यह रोग लाल रक्त कोशिकाओं में प्रोटोजोवा नाम का परजीवी पैदा हो जाने से यह फैलता है। इससे बचने के लिए सबसे पहले तो अपने घर के अंदर और आसपास पानी जमा होने से रोकें। इसके साथ ही मच्छतर के काटने से खुद का बचाव करने के लिए रात को सोते समय मच्छरदानियों का प्रयोग करें। डीडीटी का छिड़काव करायें। सबसे अहम् बात अगर मलेरिया के लक्षण दिखायी दें तो लापरवाही ना बरतें तुरंत डाक्टेर को दिखायें।
हैजा
हैजा एक और बीमारी है जो काफी खतरनाक है मानसून में हो सकती है। आमतौर पर यह बीमारी दूषित पानी और भोजन के माध्याम से इस मौसम में फैलती है। घर के अंदर और बाहर स्वपच्छकता की कमी रोग को फैलने में मदद करती है। इस रोग के होने पर रोगी को दस्त और उल्टियां अधिक आने लगते हैं। पेट में दर्द बढ़ने लगता है। रोगी को बैचौनी महसूस होती है और बहुत प्यास लगने लगती है। वैसे तो टीकाकरण इस रोग से बचाव का सबसे अच्छाब उपाय है, इसका असर लगभग 6 महीने तक रहता है। इसके साथ ही कुछ और बातें भी ध्याछन रख्घें जैसे पीने से पहले पानी को उबाल लें। घर और आस-पास साफ-सफाई का ध्याघ्न रखें। फिर भी अगर हैजा हो जाता है तो उसे ओरल रिहाइड्रेशन तुरंत दिया जाना चाहिए। समय पर उपचार रोगी के लिए बहुत जरूरी है क्योंनकि चिकित्सा में देरी जीवन को खतरे में डाल सकती है।
टाइफाइड
मानसून के दौरान टाइफाइड हाने का खतरा भी रहता है। संक्रमित पानी और खाद्य पदार्थों के जरिए इस रोग के होने की संभावना सबसे अधिक होती है। इस बीमारी में तेज बुखार आता है, जो घटता बढ़ता रहता है और कई दिनों तक बना रहता है। इस बीमारी की सबसे खतरनाक बात यह है कि व्?क्ति के ठीक होने के बाद भी संक्रमण रोगी के पित्ताशय में बना रहता है, जो खतरा पैदा कर सकता है। इस रोग से पीघ्ड़घ्ति व्यीक्ति को परिवार के अन्यव सदस्योैं से दूर रहना चाहिए क्योंबकि यह एक संक्रामक रोग होता है। मानसून के दौरान बीमारी को रोकने के लिए टीकाकरण लेना बहुत जरूरी होता है। साथ ही इस बीमारी से बचने के लिए बरसात के दिनों में लिक्विूड डाइट भरपूर मात्रा में इस्तेममाल करनी चाहिए।
हेपेटाइटिस
एक वाइरल डिसीज है हेपेटाइटिस ए। यह बीमारी इंफेक्टौड खाने, पानी और इस बीमारी से ग्रस्त व्यक्ति के संपर्क में आने से फैलती है। पीलिया, थकावट, भूख न लगना, मिचली, हल्का बुखार, पीले रंग का यूरीन और सारे शरीर में खुजली इसके आम लक्षण है। इस घातक बीमारी को रोकने के लिए टीकाकरण करवाना बहुत जरूरी है। इसके साथ ही हाइजनिक फूड और पानी का इस्तेरमाल जरूरी है। हेपेटाइटिस के मरीज को पूरा आराम दिया जाना चाहिए और उसे अपने आहार में उच्च कैलोरी लेनी चाहिए।
सर्दी, जुकाम, बुखार
मानसून के दौरान सर्दी, जुकाम और बुखार का होना सबसे सामान्यच है। किसी भी आयु वर्ग के व्यौक्ति को इस मौसम में इस समस्यास का सामना करना पड़ सकता है। बुखार, गले में खराश और लगातार छींकना इस बीमारी के कुछ लक्षणों में से हैं। इस संक्रमण के प्रकोप से अपने आपको बचाने के लिए सबसे अच्छा तरीका है कि बारिश में भीगने से बचा जाये। एयर कंडीशनर को सामान्यब तापमान पर चलाये और बहुत अधिक ठंडे या बर्फ की तरह जमे फूड आइटम्सा से परहेज करें।
(साई फीचर्स)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *