जान हथेली पर रखकर पार कर रहे पुल!

 

 

छपारा क्षेत्र में उड़ रही कलेक्टर के आदेशों की धज्जियां!

(फैयाज खान)

छपारा (साई)। छपारा से लगभग 15 किलो मीटर दूर छपारा तिघरा मार्ग पर सुनवारा के पास उफनाती नदी को लोग जान हथेली पर रखकर पार करने पर मजबूर हैं। शनिवार को पुल पर से पानी बहने के बाद भी लोग इसे पार करते नजर आए। मौके पर इन्हें रोकने एक भी सरकारी नुमाईंदा दिखाई नहीं दिया।

प्राप्त जानकारी के अनुसार सुनवारा के पास बह रही नदी में पुल के लगभग एक से डेढ़ फीट ऊपर से पानी बह रहा था। पुल पार करने के लिए ग्रामीण जिनमें महिलाएं, पुरूष और बच्चे भी शामिल थे जान का जोखिम उठाते दिखे। इस दौरान बनाया गया वीडियो भी समाचार एजेंसी ऑफ इंडिया की वेब साईट पर वायरल हो रहा है।

वहीं, मुख्यालय में शनिवार को एक बार फिर जोरदार बारिश ने जिला मुख्यालय सहित जिले भर को पानी से तरबतर कर दिया। आसपास के ग्रामीण क्षेत्रों में हुई बारिश से फसलों को फायदा मिलेगा। पिछले एक सप्ताह से मुख्यालय में बारिश थमी हुई थी। तेज धूप की तपन लोगों का गर्मी का एहसास करा रही थी। लेकिन एक बार फिर मानसून के सक्रिय होने से लोगों को राहत मिली है।

लगातार तीन घंटे की बारिश से क्षेत्र के नाले आए उफान पर : छपारा नगर सहित आसपास के क्षेत्रों में दोपहर में अचानक मूसलाधार बारिश हुई। यह बारिश लगातार तीन घंटे तक हुई जिसमें दोपहर 01 से 02 बजे तक तेज बारिश हुई। इसके बाद 02 बजे से शाम 04 बजे तक रिमझिम बारिश का दौर चलता रहा।

शनिवार को हुई इस बारिश ने क्षेत्र को तरबतर कर दिया। वहीं नगर के आसपास लगे हुए नाले उफान में आ गए। इससे जल प्लावन की स्थिति बन गई। निचली बस्तियों के घरों में पानी भर गया। लगातार तीन घंटों की हुई इस बारिश से बाजार में सन्नाटा छा गया। पानी निकासी नही होने के चलते कई स्थानों पर जलभराव की स्थिति बनी रही।

यहां यह उल्लेखनीय होगा कि जिलाधिकारी प्रवीण सिंह के द्वारा पिछले दिनों केवलारी क्षेत्र के भ्रमण के दौरान निर्देश दिए थे कि जिले भर में पुल पर पानी होने की दशा में आवागमन पूरी तरह रोक दिया जाए। उन्होंने पुल पुलियों पर रोशनी की व्यवस्था करने और नुमाईंदों को तैनात करने के निर्देश दिए थे। बावजूद इसके उनके निर्देशों पर अमल करना जिले के सरकारी कर्मचारियों ने मुनासिब नहीं समझा है।