प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष के लिए एक व्यक्ति-एक पद का फॉर्मूला

 

 

 

 

(ब्यूरो कार्यालय)

भोपाल (साई)। मध्य प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष को लेकर इसी महीने फैसला होने की संभावना है। कांग्रेस हाईकमान द्वारा यह फॉर्मूला तैयार किया जा रहा है कि अगर किसी मंत्री को प्रदेश अध्यक्ष अध्यक्ष बनाया गया तो उसे एक व्यक्ति-एक पद सिद्धांत के चलते मंत्री पद से इस्तीफा देना होगा।

तेजी से चल रहे घटनाक्रम में अध्यक्ष की दौड़ में कमलनाथ सरकार के कुछ मंत्रियों के अलावा पूर्व केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया, पूर्व नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह और पूर्व सांसद मीनाक्षी नटराजन के नाम चर्चा में आए हैं।

प्रदेश में 15 साल बाद सरकार बनने के कारण मुख्यमंत्री और प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष की जिम्मेदारी कमलनाथ संभाल रहे हैं। दोहरी जिम्मेदारी होने के चलते वे संगठन को ज्यादा समय नहीं दे पा रहे हैं, इसलिए पिछले दो-तीन माह से उनके स्थान पर किसी अन्य नेता को संगठन की कमान सौंपे जाने की चर्चा चल रही है।

लोकसभा चुनाव में पार्टी की करारी हार के बाद कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के इस्तीफे से संगठन में उथल-पुथल मची थी, जिससे मध्य प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष का फैसला नहीं हो सका। सूत्रों के मुताबिक पिछले दिनों सोनिया गांधी के अंतरिम अध्यक्ष बनते ही मप्र कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष को लेकर फिर कवायद तेज हो गई।

हाईकमान ने प्रभारी महासचिव दीपक बाबरिया को नेताओं से मुलाकात करने के लिए भोपाल भेजा और संगठन की स्थिति की रिपोर्ट ली।