पर्यावरण संरक्षण है हमारी संस्कृति की विशेषता : ढाल सिंह

 

 

(ब्यूरो कार्यालय)

सिवनी (साई)। पर्यावरण संरक्षण भारतीय संस्कृति की अनमोल परंपरा है। हजारों वर्षों से हमारे पुरखों, पूर्वजों ने इसके महत्व को जाना है और हमें धर्म तथा संस्कृति के माध्यम से इसके संरक्षण की शिक्षा और संस्कार दिए हैं।

उक्त आशय की बात सांसद डॉक्टर ढाल सिंह बिसेन द्वारा वृक्षारोपण कार्यक्रम में वृक्षों तथा पेड़ पौधों के महत्व तथा आवश्यकता पर जोर देते हुए कही गई। आपने कहा कि दुर्भाग्य से जो पेड़ पौधे हमारे जीवन का आधार और प्राण वायु का माध्यम है उसे लोगों ने लकड़ी का एक ऐसा टुकड़ा समझा जिसे प्रकृति ने हमारे उपभोग के लिए उत्पन्न किया है। आज इस सोच के दुष्परिणाम हम साक्षात देख और भुगत रहे हैं।

 आपने कहा कि हम आज भी सचेत नहीं हुए तो हमारी आने वाली पीढ़ी भारी संकटों का सामना करेंगी। यह हमारा प्रकृति के प्रति अक्षम्य अपराध होगा। आवश्यकता है कि लोग इसके महत्व को समझें और इसके संरक्षण के लिए संकल्प लें।

उल्लेखनीय है कि सांसद डॉ सिंह बिसेन द्वारा आज कामठी स्थित प्रसिद्ध चिकित्सा संस्थान आशा मेडिकल कालेज में आयोजित वृक्षारोपण कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में शामिल होने पहुंचे थे। इस अवसर पर डॉक्टर बिसेन ने कहा कि हमारी सरकार पर्यावरण के संरक्षण के लिए प्रतिबद्ध है और इसे हेतु जनजागृति के साथ ही अन्य सभी आवश्यक कदम उठाए जा रहे हैं।

डॉक्टर बिसेन के साथ इस कार्यक्रम में पहुंचे भाजपा कार्यसमिति सदस्य दिलीप अग्रवाल ने बताया कि आशा हॉस्पिटल एवं मानक चंद प्रभुदान चैरिटेबल ट्रस्ट द्वारा संचालित आशाराम कॉलेज, स्कूल आफ नर्सिंग कामठी में वृक्षारोपण कार्यक्रम आयोजित किया गया।

इस कार्यक्रम में डॉ बिसेन ने वृक्षारोपण तथा पर्यावरण के संरक्षण के संबंध में मार्गदर्शन दिया। इस अवसर पर आशा हॉस्पिटल के डायरेक्टर एवं कालेज के ट्रस्टी डॉ राजेंद्र अग्रवाल, कालेज के सीएफओ अंकित अग्रवाल, सीईओ जय हरि सिंह ठाकुर कालेज के प्राचार्य श्रीमती सुमती देवधर सहित अनेक चिकित्सक एवं अधिकारी कर्मचारी तथा विद्यार्थी गण उपस्थित रहे।